नई दिल्ली, 29 मार्च. नई दिल्ली में गुरुवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में कहा कि आर्थिक वृद्धि की बहाली के लिए हमें नीति समन्वय सुनिश्चित करना होगा.

उन्होंने कहा है कि बुनियादी ढांचे के विकास पर ध्यान देना होगा. पीएम ने वीजा नियमों में सुधार लाए जाने की जरूरत पर भी बल दिया. उन्होंने ब्रिक्स बैंक की स्थापना पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा कि आतंकवाद एवं अन्य खतरों, जैसे समुद्री डकैती, खास तौर पर सोमालिया से सामने आने वाले समुद्री डकैतों के खिलाफ हमें सहयोग में इजाफा करना होगा . मनमोहन सिंह ने कहा कि वैश्विक उर्जा बाजार में उतार-चढ़ाव कायम करने वाली और व्यापार के प्रवाह को प्रभावित करने वाली राजनीतिक बाधाओं को हमें नजरअंदाज करना होगा. अपने संक्षिप्त सत्र में हमने पश्चिम एशिया में जारी संकट पर चर्चा की और इसके शांतिपूर्ण समाधान के लिए एक साथ काम करने पर सहमति जतायी .

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार जैसे मुद्दों पर ब्रिक्स देशों को एक आवाज में बोलना चाहिए. दुनिया की पांच उभरती अर्थव्यवस्था वाले देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका की सदस्यता वाले ब्रिक्स समूह का चौथा सम्मेलन गुरुवार को राजधानी दिल्ली में शुरू हो गया. राजधानी के ताज पैलेस होटल में इन देशों के शासनाध्यक्ष विभिन्न मुद्दों पर बातचीत कर रहे हैं. सम्मेलन का विषय ‘वैश्विक स्थिरता, सुरक्षा और समृद्धि के लिए ब्रिक्स की साझेदारी’ है.

जिंताओ की सुरक्षा के खास इंतजाम

जंतर-मंतर पर चीन विरोधी प्रदर्शन के दौरान खुद को आग लगाने वाले तिब्बती प्रदर्शनकारी युवक की मौत के मद्देनजर ब्रिक्स [ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका] सम्मेलन में भाग लेने यहां पहुंचे चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ व उनके साथ आए प्रतिनिधिमंडल की सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं. जिंताओ की यात्रा के विरोध में दो दिन पहले सोमवार को एक तिब्बती प्रदर्शनकारी युवक ने जंतर-मंतर पर खुद को आग लगा ली थी, जिसकी बुधवार को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई. जिंताओ व चीन का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को ही दो दिवसीय भारत दौरे पर यहां पहुंचा है. न केवल सम्मेलन स्थल, बल्कि राजधानी के ओबेराय होटल में भी त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है, जहां जिंताओ ठहरे हुए हैं.

पुलिस ने होटल तक आने वाले सभी मार्गो पर नाकेबंदी कर दी है. साथ ही होटल के मुख्य प्रवेश द्वार तक बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं. सभी प्रवेश द्वार पर होटल के सुरक्षा कर्मियों के अतिरिक्त वर्दी में और सादे लिबास में भी पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं. होटल के भीतर भी दिल्ली पुलिस के जवानों की सादे लिबास में तैनाती की गई है. साथ ही दूतावास के अधिकारी भी यहां मौजूद रहेंगे. होटल में लोगों को सघन जांच के बाद ही जाने की अनुमति दी जाएगी. किसी को भी पूर्व मंजूरी के बगर सुरक्षा कर्मियों या चीनी प्रतिनिधियों से बातचीत की अनुमति नहीं होगी. होटल के कर्मचारी अन्य अतिथियों पर नजर बनाए हैं और किसी भी संदिग्ध गतिविधि की जांच कर रहे हैं. पुलिस के अनुसार, जिस मंजिल पर चीनी प्रतिनधिमंडल के सदस्य रुके हैं, उसके नीचे तथा ऊपर की मंजिल खाली करा ली गई है.

तिब्बतियों का प्रदर्शन

चीनी राष्ट्रपति हू जिंताओ की भारत यात्रा का विरोध कर रहे तिब्बती प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने गुरुवार को उस पांच सितारा होटल के निकट तिब्बती झंडा फहराया, जहां अन्य देशों के नेताओं के साथ जिंताओ ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं. आज सुबह दस बजे के आसपास तिब्बती कार्यकर्ताओं ने सान मार्टिन जोस रोड पर पैदल चलने वालों के लिए बने ओवरब्रिज पर तिब्बती झंडा फहराया. यह स्थान होटल ताज पैलेस से एक किलोमीटर से कम की दूरी पर स्थित है, जहां हू जिंताओ प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं अन्य नेताओं के साथ ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं. झंडा फहराने के बाद तिब्बती कार्यकर्ताओं ने सम्मेलन स्थल की ओर बढऩे का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे बढऩे से रोक दिया और हिरासत में ले लिया.

तिब्बतियों के एक समूह ने कल ओबेराय होटल में घुसने का प्रयास किया था, लेकिन उन्हें रोक दिया गया. जिंताओ इसी होटल में ठहरे हैं. ताज पैलेस और उसके आसपास सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं और 2000 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ताज पैलेस में तीन स्तरीय सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं. उन्होंने बताया कि बाहरी और मध्य घेरे में दिल्ली पुलिस के लोग तैनात हैं, जबकि तीसरे घेरे में दूतावास के अधिकारियों के समन्वय से दिल्ली पुलिस सुरक्षा बंदोबस्त संभाल रही है. अधिकारी ने बताया कि होटल के जिन कमरों में नेता ठहरे हुए हैं उनके ऊपरी एवं निचली मंजिल के कमरों को खाली रखा गया है.

Related Posts: