भोपाल, 9 अक्टूबर. बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के सतत् शिक्षा तथा विस्तार विभाग द्वारा संचालित सतत् शिक्षा केन्द्र मीरा बाई पी.सी. नगर वार्ड क्रं. 50,जाटखेड़ी, भाभा इंस्टीट्यूट के पास वार्ड कं.52 मिसरोद में अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस सप्ताह के अंतर्गत कार्यक्रम  का आयोजन किया गया.

जिसमें सतत शिक्षा केन्द्र मीरा बाई पी.सी. नगर के उर्मिला शर्मा स्मृति प्राथमिक शाला में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. जिसमें प्रथम एवं द्वितीय पुरस्कार के साथ सभी प्रतिभागियों को चित्रकला किट प्रदान किया गया. सतत् शिक्षा केन्द्र जाटखेड़ी वार्ड कं. 52 मिसरोद में भी अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस सप्ताह के अंतर्गत मद्य-निषेध विषय पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ.हेमन्त खण्डाई ने नशे से होने वाली मुख्य बीमारियों एवं समाधान के विषय में महत्वपूर्ण जानकारियाँ देते हुए कहा कि नशे से व्यक्ति स्वयं,परिवार,समाज एवं देश के लिए महामारी के समान है.

धूम्रपान एवं मद्यपान नहीं करने की सलाह दी और साथ ही महात्मा गॉधी जी के विचारों को अपने जीवन में उतारने की सलाह दी.कार्यक्रम में मुख्य रूप से सतत्ï शिक्षा तथा विस्तार विभाग के परियोजना सहायक अमृत पाटेल ने कहा कि नशा नाश की जड़ है. नशा करने वाले व्यक्ति स्वयं स्वस्थ नहीं रह सकता उसकी आर्थिक स्थिति दयनीय होती है, परिवार भी बिखर  जाता है.

समाज उसका तिरस्कार कर देता है. ऐसे व्यक्ति को नशा मुक्ति हेतु सरकार द्वारा संचालित नशा मुक्ति केन्द्र में परामर्श एवं उपचार की आवश्यकता होती है.अत: मेरी सलाह यही है कि ऐसे व्यक्ति को तुरंत उपचार करवाना चाहिए. परियोजना सहायक ललित कुमार गुर्जर ने कहा कि नशा से मुक्ति के लिए परिवार को प्रयास करना चाहिए. बच्चों को शिक्षित करने आवश्यकता है एवं नशे से होने वाले दुष्परिणामों के विषय में जानकारियॉं देते रहना चाहिए ताकि वे इन बुराईयों से बचे रहें.

Related Posts: