बाजार में विभिन्न आकर्षक पैकिंग में बिकता सामान उपभोक्ताओं को आकर्षित करता है, लेकिन ये कितना उपयोगी है इसकी जानकारी हर पैकिंग से नहीं मिल पाती

फू ड पैकेजिंग में अतिरिक्त विटामिन और मिनरल्स का प्रयोग किया जाता है ताकि वह नेचुरल लगे. पर इस तरह का प्रयोग लाभदायक कम जोखिम भरा ज्यादा होता है.  फूज पैकेजिंग से पहले कई तरह की प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है जिसके कारण उसमें रखी भोज्य सामग्री की पौष्टिकता पर असर पड़ता है। विटामिन और मिनरल मिलकर शरीर को चलाते हैं. जरूरत से ज्यादा विटामिन और मिनरल्स शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं।

पैकेट फूड खाने के साथ यदि आप अतिरिक्त विटामिन बी लेते हैं तो यह शरीर के लिए नुकसानदायक होता है।  कुछ न्यूट्रिसन्स टॉक्किस में बदल जाते हैं। यदि आप विटामिन ई की मात्रा ज्यादा लेते हैं तो शरीर में विटामिन एच की गुणात्मकता कम हो जाती है। विटामिन एच शरीर में खून के रिसाव को कम करता है। क्या आपको मालूम है कि शरीर में कितने विटामिन और खनिज की जरूरत हैं? और पैकेट में बंद सामग्री खाकर आप न जाने कितने विटमिन और मिनरल से वंचित रह जाते हैं। यदि आप किसी खास  ब्रांड का आटा, मसाला प्रयोग कर रहे हैं तो आपको पता ही नहीं कि आप न जाने कितने विटामिन नहीं ले रहे हैं।

शरीर में  फैट कम करने वाले विटामिन ए, डी, और  ई शरीर के मेटाबोलिज्म को  नियंत्रित करते हैं लेकिन इनकी अधिकता टाक्किस का विकास करती है। विटामिन बी और सी  शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाते क्योंकि यह घुलनशील होते हैं और शरीर से बाहर निकल जाते हैं।  बाजार में विभिन्न आकर्षक पैकिंग में बिकता सामान उपभोक्ताओं को आकर्षित करता है, लेकिन ये कितना उपयोगी है इसकी जानकारी हर पैकिंग से नहीं मिल पाती। फूड पैकेजिंग एक्ट के अनुसार प्रत्येक पैक खाद्य पदार्थ की पैकिंग पर बैच नम्बर, निर्माण की तिथि तथा उचित उपयोग की अवधि लिखना अनिवार्य है। लेकिन कुछ उत्पादकों द्वारा इसका पालन नहीं किया जाता है। उपभोक्ता भी जानकारी के अभाव में इनका उपयोग करते रहते हैं।

बाजार में इन दिनों पैक्ड फूड आइटम की भरमार है। विभिन्न स्वादों तथा रंगीन रैपर में ये खाद्य पदार्थ उपभोक्ता को आकर्षित करते हैं। खाद्य विभाग के आदेशानुसार इन पैक आइटमों के रैपर पर विभिन्न शर्तो का लिखना जरूरी होता है। कुछ उत्पादक इन नियमों का पालन नहीं करते और कुछ आधे निर्देशों का पालन करते हैं। उपभोक्ता वस्तु की तिथि निकलने के बाद भी उसका उपयोग करते रहते हैं। जबकि एक निश्चित तिथि निकलने के बाद उसकी गुणवत्ता में अंतर आ जाता है।

Related Posts:

शेयर बाजार में मामूली बढ़त
उत्तर प्रदेश ग्राम पंचायत मतदान: चाक चौबन्द सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान शुरु
थैचर को दिया रीगन का तोहफा करीब तीन लाख पाउंड में नीलाम
भारत-अमेरिका के बीच सैन्य तंत्र के आदान प्रदान पर सहमति
मोदी का भारत-श्रीलंका मैत्री को मजबूत बनाने का आह्वान
उप्र में चॉकलेट की फैक्ट्री लग जाये तो गन्ना काश्तकार कार से चलेगा : राहुल