लय बनाए रखने उतरेगी फिरोज शाह कोटला में धोनी एंड कंपनी

नई दिल्ली,16 अक्टूबर. इंग्लैंड के खिलाफ  पहले वनडे में 126 रन की विशाल जीत से उत्साहित टीम इंडिया जब यहां सोमवार को फीरोजशाह कोटला मैदान पर पांच एक दिवसीय मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में उतरेगी तो उसका एकमात्र मकसद अपना विजई अभियान जारी रखकर मजबूत बढ़त बनाने का होगा.

कप्तान महेन्द्र सिंह धौनी के नेतृत्व में टीम ने हैदराबाद में जो प्रदर्शन किया थाए उससे उसका मनोबल काफी बढ़ा होगा और इंग्लैंड दौरे पर मिली निराशा से वह अब उबर चुकी होगी. अब यही वक्त है कि वह अपनी आक्रामक मुद्रा बनाए रखकर इंग्लैंड में हार का उससे जमकर बदला ले सके. जहां तक टीम काम्बिनेशन की बात है, भारत के अंतिम एकादश में बड़े फेरबदल की गुंजाइश नहीं दिखती है. लेकिन दिल्ली के लाडले गौतम गंभीर अपने इस घरेलू मैदान पर एक बार फिर से सलामी बल्लेबाज की भूमिका में लौट सकते हैं. इंग्लैंड दौरे पर उनके टीम से बाहर होने के कारण ओपनर अंजिक्या रहाणे को मौका मिला था और मौजूदा सीरीज के पहले मैच में उन्होंने ही पार्थिव पटेल के साथ पारी की शुरुआत की थी जबकि गंभीर तीसरे नंबर पर उतरे थे. कोटला में अब तक दोनों टीमों के बीच मात्र दो मुकाबले हुए हैं और मामला एक.एक की बराबरी पर है. इस तरह यहां जो भी टीम जीतेगी. वह मैदान पर अपना रिकॉर्ड बेहतर कर लेगी. यह भी मजे की बात है कि इस मैदान पर बल्लेबाजी भारतीय कप्तान धौनी को खूब रास आती है और इस समय वह अच्छी लय में दिख रहे हैं.

कप्तान धौनी की अगुवाई में मध्यक्रम के बल्लेबाजों ने पिछले मैच में अच्छा प्रदर्शन किया था. कप्तान को यह सिलसिला जारी रहने की उम्मीद होगी. उस मैच में हर विभाग में भारतीय खिलाड़ी रंग में दिखे थे और विपक्षी कप्तान ने भी यह बात कबूल की थी. अब टीम इंडिया को अपनी इस मनोवैज्ञानिक बढ़त का फायदा लेना है. धौनी ने हैदराबाद में अपनी तेज तर्रार अर्धशतकीय पारी से विपक्षी गेंदबाजों को कड़ी चुनौती दी थी. अगर उनकी यह फार्म दिल्ली में भी बरकरार रही तो टीम इंडिया की राह ज्यादा मुश्किल नहीं होनी चाहिए. युवा प्रतिभाशाली बल्लेबाज सुरेश रैना ने पिछले मैच में धौनी का अच्छा साथ दिया था. पिछले कुछ माह में वह टीम के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज के रूप में उभरे हैं. ऐसे में उनसे काफी उम्मीदें लगाई जाएंगी. रैना का गृहनगर गाजियाबाद भी दिल्ली से सटा हुआ है. ऐसे में उन्हें भी होम एडवांटेज और होम प्रेशर दोनों का सामना करना होगा.

दिल्ली के एक अन्य बल्लेबाज विराट कोहली से भी इस मैच में काफी उम्मीदें होंगी. विराट ने हैदराबाद में 37 रन की धीमी मगर उपयोगी पारी खेली थी. अब उन्हें अपने घरेलू दर्शकों की तमन्नाओं को पूरा करना होगा. गेंदबाजी में रविचंद्रन अश्विन और उमेश यादव के साथ पार्टटाइमर जडेजा का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था. मेरठ एक्सप्रेस प्रवीण कुमार ने भी काफ ी किफायती गेंदबाजी की थी हालांकि उन्हें अपेक्षाकृत कम विकेट मिल पाए थे. जहां तक बात इंग्लैंड की है. पहले वनडे की मिली करारी हार से अब तक उसका अतिआत्म विश्वास जमीन पर आ चुका होगा. टीम को अपने लगातार निखरने का दंभ सही साबित करने के लिए यहां बड़ी जीत दर्ज करनी होगी. लेकिन उसे पता है कि यहां राह इतनी आसान नहीं रहने वाली है.

आलराउंडर रवि बोपारा और धुरंधर बल्लेबाज केविन पीटरसन समेत कुछ खिलाडिय़ों के आईपीएल अनुभव के कारण उनके लिए दिल्ली में उतरना सहज हो सकता हैए लेकिन निश्चित तौर पर इस मैच में स्थितियां आईपीएल से अलग होंगी. इंग्लिश क्रिकेटरों को इस बात का पूरा ख्याल रखना होगा. पिछले मैच में कप्तान एलेस्टेयर कुक को छोड़कर सभी बल्लेबाजों ने आत्मसमर्पण कर दिया था. अगर टीम को वापसी करनी है तो इस घुटनाटेक प्रदर्शन को उसे जल्द भूलना होगा. अनुभवी पीटरसनए आक्रामक जोनाथन ट्राट और अभ्यास मैचों में अच्छे हाथ दिखाने वाले जानी बेरस्टो से टीम को खासी उम्मीदें रहेंगी. गेंदबाजी में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिनरों में शुमार ग्रीम स्वान, घातक तेज गेंदबाज टिम ब्रेसनन और स्टीवन फि न पर दारोमदार रहेगाए जबकि बोपारा से पार्टटाइम में उपयोगी योगदान की उम्मीद रहेगी.

टीमें
भारत: महेन्द्र सिंह धोनी ;कप्तान, गौतम गंभीर, पार्थिव पटेल, अजिंक्या रहाणे, विराट कोहली, सुरेश रैना, मनोज तिवारी, रवीन्द्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, राहुल शर्मा, विनय कुमार, प्रवीण कुमार, वरुण आरोन, श्रीनाथ अरविंद और उमेश यादव.

इंग्लैंड: एलिस्टेयर कुक, कप्तान. क्रेग कीसवेटर. केविन पीटरसन, जोनाथन ट्रॉट, इयान बेल, रवि बोपारा, जॉनी बेयरस्ट्रो, ग्रीम स्वान, स्कॉट बोर्थविक, समित पटेल, टिम ब्रेसनन, स्टीव फिन, क्रिस वोक्स, जेड डर्नबाख और स्टुअर्ट मीकर.

Related Posts: