बीजिंग, 15 मई. चीन की सरकार ने दलाईलामा के आरोपों का खंडन किया है. वहीं चीनी मीडिया ने तिब्बती धर्मगुरु को आड़े हाथों लिया है. दलाईलामा ने कहा था कि चीनी एजेंट उन्हें जहर देकर मारने की साजिश रच रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया था कि उनकी हत्या के लिए चीन कुछ तिब्बती महिलाओं को प्रशिक्षण दे रहा है.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लेई ने कहा, धार्मिक आड़ में दलाईलामा अंतरराष्ट्रीय रूप से चीन विरोधी अलगाववादी क्रियाकलाप में शामिल हो गए हैं. वह लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए अफवाहें फैला रहे हैं. उनके सनसनीखेज आरोप खारिज करने लायक भी नहीं हैं.  इस साल चीन में नए नेतृत्व के लिए कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक से पहले दलाईलामा कपटपूर्ण चालें चल रहे हैं और अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा दे रहे हैं. अगर केंद्रीय सरकार दलाईलामा को मारना चाहती थी तो इतनी देरी क्यों की? इस उम्र में उनके खिलाफ कदम उठाना क्या मूर्खता नहीं होगी?  वह अपने दावे को भविष्य में किसी बीमारी के बहाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

Related Posts: