छिंदवाड़ा 16 अक्टूबर.भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने  कहा कि  वोट के बदले नोट जैसा घिनौना कांड पहले कभी नहीं हुआ. इस कांड का सबसे दुखद पहलू यह रहा कि जिन्होने इसे उजागर किया वे आज जेल में है और जिन्होने इसमें अहम भूमिका निभाई वे बाहर  है. यही वजह है कि मैने यात्रा करने का निर्णय लिया.

श्री आडवाणी ने आज यहां जनचेतना यात्रा के प्रदेश में अंतिम पड़ाव के दौरान स्थानीय पुलिस मैदान में  आयोजित विशाल सभा में यह बात कही. उन्होंने कहा कि इस बार सन 1977 के चुनाव जैसे  हालातों की याद आ रही है. इन चुनावों में भी कांग्रेस को पूरे देश में करारी शिकस्त मिली थी. उस समय जिस तरह का आक्रोश जनता में था अभी भी वहीं आक्रोश केंद्र और कांगे्रेस सरकार के खिलाफ दिखाई दे रहा है. भ्रष्टाचार से लोग त्रस्त है. मुझे इस बात का एहसास है कि जनता को जब गुस्सा आता है तो क्या नतीजे सामने आते है. इस दौरान मंच पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतिन गड़करी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा समेत अन्य नेता मौजूद थे.

श्री गड़करी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र की सरकार में हो रहे घोटालों के बारे में जब प्रधानमंत्री से जवाब मांगा जाता है तो वे कुछ नहीं कहते. ऐसे में मैने उन्हें सलाह दी कि वे तीर्थयात्रा पर चलें जाएं तो बेहतर होगा. उन्होने कहा कि इस समय प्रधानमंत्री धृतराष्ट्र की भूमिका में है. कांग्रेस के तमाम नेता लक्ष्मी दर्शन के कार्यक्रम में लगे हुए है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने कहा था कि एक रूपए केंद्र से निकलता है तो पंद्रह पैसे ही पहुंचते है. अब यह आंकड़ा बेहद कम हो गया है. श्री गड़करी ने साफ तौर पर कहा कि राजनीति और व्यापार एक साथ नहीं हो सकती. जिन्हें पैसा कमाना है वे राजनीति में न आएं. ऐसे लोगों के लिए भाजपा में कोई स्थान नहीं है.

Related Posts: