नई दिल्ली, 28 सितंबर. कश्मीर घाटी की अपनी दो दिवसीय यात्रा संपन्न करने के बाद राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने आज कहा कि घाटी में हालात सुधर रहे हैं. घाटी की यात्रा के दौरान मुखर्जी ने राज्यपाल एन एन वोहरा तथा मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला से प्रदेश के हालात का ब्यौरा लेने के साथ ही विभिन्न वर्गों के लोगों से बातचीत की.

मुखर्जी ने श्रीनगर से लौटते हुए भारतीय वायुसेना के विमान में संवाददाताओं द्वारा स्थिति के बारे में उनके आकलन के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि मुझे ऐसा लगता है कि हालात सुधर रहे हैं. राष्ट्रपति ने बताया कि उन्होंने घाटी की अपनी यात्रा के दौरान बड़ी संख्या में लोगों से पूछताछ की और विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया. इन लोगों में फ्रूट ग्रोअर्स ऐसोसिएशन, सैफरन ग्रोअर्स ऐसोसिएशन, आर्टिजन ऐसोसिएशन के प्रतिनिधि शामिल थे, जिन्होंने जेकेपीसीसी के अध्यक्ष सैफुद्दीन सोज की अगुवाई में राष्ट्रपति से मुलाकात की. अखिल भारतीय गुज्जर महासभा, सर्वदलीय सिख समन्वय समिति तथा जम्मू कश्मीर पहाड़ी संघ के सदस्यों ने भी मुखर्जी से मुलाकात कर संबंधित मुद्दों से उन्हें अवगत कराया. मुखर्जी ने कहा कि वह इस बात से विशेष रूप से प्रभावित हुए कि कल श्रीनगर में कश्मीर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में जब उन्होंने मैरिट पुरस्कार प्रदान किए तो इन पुरस्कारों को प्राप्त करने वाली 85 फीसदी छात्राएं थीं .

दीक्षांत समारोह में अपने भाषण में उन्होंने प्रदेश की जनता से संपर्क कायम करने का प्रयास करते हुए इस बात को स्वीकार किया कि कुछ शिकायतें हैं और साथ ही यह सुनिश्चित करने का वादा किया कि प्रत्येक कश्मीरी गरिमा के साथ जिंदगी जियें.

Related Posts: