भोपाल, 8 मई. राजधानी के नागरिकों को निजी जनभागदारी के माध्यम से सप्ताह के सातों दिन एवं 24 घंटे जल आपूर्ति करने की योजना के टेंडर डाकूमेंट तैयार करने की सहमति उक्त कार्य हेतु गठित समिति ने सोमवार को आचार्य नरेन्द्र देव पुस्तकालय के सभागार में हुई बैठक में विचार-विमर्श उपरांत जानकारी दी.

निगम परिषद अध्यक्ष कैलाश मिश्रा, निगम आयुक्त रजनीश श्रीवास्तव, कांग्रेस पार्षद दल के नेता मो. सगीर, महापौर परिषद के सदस्य अशोक पांडे एवं क्रियान्वयन समिति के अन्य सदस्यों की मौजूदगी में आहूत बैठक में शहर में 24&7 जल प्रदाय व्यवस्था हेतु जल वितरण प्रणाली में सुधार तथा अराजस्व जल में कमी हेतु पीपीपी पद्घति से क्रियान्वयन के संबंध में निगम अधिकारियों ने पावर पाईंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी. बैठक में इस योजना के माध्यम से नागरिकों को और अधिक बेहतर जल आपूर्ति की सुविधा उपलब्ध कराने के दृष्टिïगत पार्षदगण के विचार/सुझावों को समाहित कर योजना से संबंधित टेंडर दस्तावेज तैयार किये जाने हेतु सशर्त मंजूरी प्रदान की.

निजी जनभागीदारी के माध्यम से 24&7 के आधार पर तैयार की गई जल वितरण परियोजना का प्रस्तुतिकरण करते हुए नगर यंत्री सुधीर कालरा ने इस प्रकार की जल प्रदाय व्यवस्था से नागरिकों एवं निगम को होने वाले लाभ एवं सुधारों, व्यवस्था लागू होने पर अनुमति दरें संभावित राजस्व आय, परियोजना का वित्तीय पोषण, स्वीकृत योजना के मुख्य अवयव योजना के अंतर्गत टंकियों फीडरमेन सहित अन्य प्रस्तावित कार्यो के साथ वर्तमान में चल रहे कार्यो, आगामी 25 वर्षो की अनुमानित जनसंख्या एवं उसके लिये आवश्यक जल की मात्रा जलप्रदाय के स्रोत, विभिन्न वार्डो में पानी के संग्रहण को मौजूद स्थिति, वर्तमान घरेलू जलदर एवं मीटर लगे हैं.

आय तथा मौजूद जलप्रदाय व्यवस्था की कठिनाईयों आदि के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी पावरपाईंट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से दी. उल्लेखनीय है कि वर्तमान में शहर की आबादी लगभग साढ़े अठारह लाख से अधिक है और नर्मदा नदी सहित अन्य स्रोतों से 496 एमएलडी पानी प्राप्त करने की क्षमता निगम के पास है, जबकि संग्रहण क्षमता 162.66 एमएल और 1.3 लाख नल कनेक्षन है जिनमें एक घंटे से डेढ़ घंटा प्रतिदिन जल प्रदाय किया जाता है. योजना के लागू होने पर लगभग 3 लाख नल कनेक्षनों में 24 घंटे पानी की उपलब्धता रहेगी.

Related Posts: