नई दिल्ली,12 जून. पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान अनिल कुंबले ने कहा कि 50 ओवर के मैच में एक गेंदबाज को 12 ओवर फेंकने की स्वीकृति देने का उनका सुझाव गेंद और बल्ले के बीच ‘प्रतिस्पर्धा को बेहतर’ ही करेगा.

भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले कुंबले ने कल की बैठक के बाद कहा, हां, मैंने तकनीकी समिति को सुझाव दिया था कि 50 ओवर के मैच में एक गेंदबाज को 12 ओवर फेंकने की स्वीकृति दी जानी चाहिए. मुझे खुशी है कि आज की बैठक में इसे स्वीकार कर लिया गया. इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, मेरा मानना है कि एकदिवसीय मैचों में एक गेंदबाज के 12 ओवर फेंकने से ना केवल बल्ले और गेंद के बीच बेहतर प्रतिस्पर्धा होगी बल्कि इससे कप्तानों का रणनीति बनाने का दायरा भी व्यापक हो जाएगा.

उन्होंने कहा, यह उनकी योजना और आकलन को प्रभावित करेगा और बल्लेबाजी टीम पर असर डालेगा फिर वह चाहे लक्ष्य का पीछा कर रही हो या लक्ष्य खड़ा कर रही हो.
कुंबले का मानना है कि बीसीसीआई द्वारा कप्तानों के सम्मेलन के आयोजन से भी बेहतर फैसले करने में मदद मिली. उन्होंने कहा, निश्चित तौर पर इससे बेहतर फैसले करने में मदद मिली. अधिक रणजी ट्राफी मैच खेलने का सुझाव कप्तानों और कोचों ने दिया था. इस नये प्रारूप के साथ प्रत्येक टीम को कम से कम आठ मैच खेलने का मौका मिलेगा जो शानदार है. एक अन्य सुझाव दलीप ट्रॉफी को और अधिक प्रासंगिक बनाना था.

कुंबले ने कहा, इसलिए तकनीकी समिति ने सुझाव दिया कि दलीप ट्रॉफी घरेलू सत्र का पहला टूर्नामेंट होगा. यह टूर्नामेंट में खेल रहे खिलाडिय़ों के लिए बड़ी प्रेरणा का काम करेगा क्योंकि उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह के अपने दावे को मजबूत करने के लिए पर्याप्त मौका मिलेगा. मौजूदा एलीट और प्लेट वर्ग प्रारूप को समाप्त करने के कारण के बारे में पूछने पर कुंबले ने कहा, यह नया प्रारूप अधिक प्रतिस्पर्धा लाएगा क्योंकि टीमों को अपने-अपने समूह में शीर्ष दो में आने का बराबरी का मौका मिलेगा. कुंबले का मानना है कि रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल को चार दिन से बढ़ाकर पांच दिन का मुकाबला करना जरूरी था.

कुंबले ने कहा, यह फैसला इसलिए किया गया कि टीमों को सीधी जीत दर्ज करने के बेहतर मौका मिले. कई बार ऐसे मौके आते हैं जब टीम पहली पारी में सिर्फ कुछ रनों के अंतर से पिछडऩे के कारण बाहर हो जाती है. आपके पास पहली पारी की बढ़त गंवाने के बाद वापसी करने और जीत की कोशिश करने के लिए पर्याप्त समय होना चाहिए. भारत की ओर से 132 टेस्ट और 271 वनडे खेलने वाले कुंबले ने साथ ही स्वीकार किया कि घरेलू स्तर पर बेहतर विकेट तैयार करने की जरूरत है. उन्होंने कहा, हां, घरेलू मैचों के लिए अच्छे विकेट सुनिश्चित करने की सलाह उपयोगी साबित होगी. अब क्रिकेट पिच समिति पहले के पांच की जगह 10 सदस्यों की टीम बनाएगी जो देशभर में यात्रा करके सुनिश्चित करेगी कि सभी घरेलू मैचों के लिए अच्छी पिचें हों.

Related Posts: