नई दिल्ली. केंद्रीय खेल मंत्री अजय माकन ने आज भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को स्पष्ट शब्दों में कहा कि वह अपने नाम के साथ इंडिया शब्द का इस्तेमाल करता है तो उसे हर हाल में प्रस्तावित खेल विधेयक के दायरे में आना होगा.

माकन ने यहां विज्ञान भवन में राज्यों के युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रियों के सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद संवाददाताओं से कहा, क्रिकेट बोर्ड या कोई भी फेडरेशन यदि भारत शब्द का इस्तेमाल कर रहा है तो उसे खेल विधेयक और सूचना का अधिकार (आरटीआई) के दायरे में आना ही होगा. उन्होंने साथ ही कहा, जो भी खेल महासंघ सरकार से अनुदान लेते हैं, वे विधेयक के दायरे से बाहर नहीं रह सकते. बीसीसीआई अपने नाम और भारतीय क्रिकेट टीम के नाम के साथ इंडिया शब्द का इस्तेमाल करता है तो वह विधेयक के दायरे से बाहर कैसे रह सकता है.

माकन ने साथ ही कहा, यह विधेयक खेल महासंघों में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए है. हम यह भी चाहते हैं कि सभी खेल महासंघ आरटीआई के दायरे में आए जिससे जनता के प्रति उनकी जवाबदेही बन सके. इसके साथ ही हर महासंघ चाहे वह क्रिकेट बोर्ड ही क्यों न हो, उसमें 25 प्रतिशत वोटिंग अधिकार खिलाडिय़ों के पास रहे. खेल मंत्री ने कहा, इस विधेयक अभी अंतरमंत्रालय चर्चा जारी है और हमें उम्मीद है कि इस बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में यह विधेयक पारित हो जाएगा. इसके बाद हम इसे संसद के शीतकालीन सत्र में पेश कर सकेंगे. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि यदि देश में खेलों को बढ़ावा देना है तो स्कूली स्तर पर खेलों को अनिवार्य शिक्षा में शामिल करना होगा ताकि बच्चे खेलों के जरिए पूरी तरह फिट रह सकें. उन्होंने कहा, फिट बच्चे ही खेलों के मैदान में उतर सकते हैं.

अभी तक देश में स्कूली बच्चों की बहुत कम संख्या खेलों के मैदान में उतरती है. यह पूछने पर कि भोपाल गैस कांड के लिए जिम्मेदार एक कंपनी के लंदन ओलंपिक की प्रायोजक बनने पर हाल ही में 22 ओलंपियनों ने जो आपत्ति की थी, उस पर उनका क्या कहना है. खेल मंत्री ने कहा, इस मुद्दे पर मुझे ज्यादा कुछ नहीं कहना. मैंने इस मामले पर अभी ज्यादा कुछ पढ़ा नहीं है.

Related Posts: