प्रकृति ने दिखाया अपना रौद्र रूप

महिला की मौत कई लोग फंसे

चमोली, 5 जुलाई. उत्तराखंड के चमोली में बादल फटने से एक महिला की मौत हो गई और 15 लोग घायल हो गए हैं. साथ ही चमोली में एक होटल का दस कमरा भी बह गया. चमोली जिले के बिराही इलाके में यह घटना हुई है. बादल फटने से पानी के बहाव में आकर एक महिला की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक बादल फटने की वजह से डायरेक्टरेट जनरल ऑफ बॉर्डर रोड्स का कैंप भी बह गया.

बादल फटने की एक घटना उत्तरकाशी के असी गंगा इलाके में भी हुई है. वहां पर सुबह तीन बजे बादल फटने की घटना हुई, जिसकी वजह से चार घर बह गए. बादल फटने के कारण वहां पर कई पर्यटक भी फंस गए हैं. पहाड़ों के इलाके में आने वाले हाईवे भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. कई जगह हाइवे ब्लॉक हुए हैं. कई जगह सर्च ऑपरेशन चल रहे हैं. ढूंढने की कोशिश की जा रही है कि मलबे में कोई दबा तो नहीं है. चमोली और उत्तरकाशी में लगातार हो रही बारिश और बादल फटने से दर्जनों घर और कई गोशालाएं जमींदोज हो गईं. सबसे बुरी दशा उन यात्रियों की है. जो चले तो थे भगवान के दर्शनों को लेकिन भारी बरसात के चलते अब वे जगह-जगह फंसे हैं.

प्रदेश में वज्राघात से14 मौत

भोपाल, 5 जुलाई. मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान कटनी, सागर, सिवनी एवं रीवा जिले में आकाशीय बिजली गिरने से आठ बच्चों सहित 14 लोगों की मौत हो गयी तथा तीन अन्य झुलस गए।

पुलिस के अनुसार सागर जिले की खुरई तहसील के तेवरी गांव में पांचवीं कक्षा की छात्रा रामप्यारी (12) शाम को स्कूल से घर लौट रही थी, तभी तेज बारिश शुरु हो जाने पर वह एक पेड़ के नीचे खड़ी हो गई। लेकिन वहां बिजली गिरने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। दूसरी घटना बीना तहसील के खिमलासा गांव की है। जहां अपनी दादी के साथ खेत घूमने गए दो बच्चे आकाश (8) और अजय (10) बारिश से बचने के लिए खेत में ही आम के एक पेड़ के नीचे खड़े हो गएं। तभी, पेड़ पर बिजली गिरने से दोनों बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई। इसी तरह की घटना केसली तहसील के पठाखुर्द गांव में हुई, जहां बिजली गिरने से खिलान आदिवासी (55) की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि उसकी पत्नी गंभीर रुप से घायल हो गई। इसके अलावा अन्य जगहों पर बाकी लोगों की बिजली गिरने से मौत हो गई।

कई इलाकों में मानसून की दस्तक

प्रदेश के पूर्वी हिस्से में दस्तक देने के बाद ठिठक चुके मानसून ने राज्य के अन्य हिस्सों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है।  मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जबलपुर तक पहुंच चुका मानसून बुधवार को होशंगाबाद, भोपाल, इंदौर, उज्जैन तथा सागर सम्भाग की ओर बढ़ गया। भोपाल में मानसून का प्रवेश कमजोर तरीके से हुआ है। राजधानी में बादल तो छाए रहे मगर बरसे नहीं। वहीं ग्वालियर में साढ़े सात और जबलपुर में साढ़े चार मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में रीवा, सागर, जबलपुर, भोपाल, शहडोल व इंदौर सम्भाग के कई हिस्सों में तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश हो सकती है।

मुंबई में भारी बारिश, आठ घायल

मुंबई में गुरुवार को दूसरे दिन भी भारी का क्रम जारी है। बारिश ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया है और काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।    बारिश की वजह से आज अंबरनाथ के बुआपाड़ा इलाके में एक घर के गिरने से आठ लोग जख्मी हो गए हैं। इसमें से एक की हालत गंभीर है। घायलों को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह हादसा भारी बारिश के चलते हुआ है। शहर में देर रात से हो रही बारिश के चलते घर की नींव कमजोर पड़ गई, जिससे यह हादसा हुआ। बारिश के चलते आफिस आने जाने वाले लोगों को काफी परेशानियां हुई। वहीं, इसका असर रेल, हवाई एवं सड़क यातायात पर भी पड़ा है।

Related Posts: