प्रदेश की हस्तकौशल विरासत से देशी-विदेशी व्यवसायी प्रभावित

नई दिल्ली, 28 नवंबर. प्रगति मैदान में भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले 2011 में मध्यप्रदेश को उसकी सदियों पुरानी हथकरघा और हस्तशिल्प की समृद्ध विरासत के भव्य प्रदर्शन के लिये आज रजत पदक दिया गया.

मेले के आज समापन समारोह में केन्द्रीय वाणिज्य सचिव राजीव खुल्लर ने मेले में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिये पेवेलियनों को पुरूस्कृत किया. राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों के वर्ग में मध्य प्रदेश को दूसरा सर्वश्रेष्ठ पेवेलियन घोषित किया गया. श्री खुल्लर ने राज्य के उद्योग आयुक्त एवं मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम के प्रबंध संचालक विनोद सेमवाल को रजत पदक प्रदान किया. प्रदेशों के इस वर्ग में देश के 28 राज्य एवं सात केन्द्र शासित प्रदेश आते हैं. मध्यप्रदेश मंडप को 1999 के पश्चात यह दूसरी बार रजत पदक प्राप्त हुआ है. मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम के प्रबंध संचालक श्री विनोद सेमवाल ने बताया कि चंदेरी और महेष्वरी वस्त्रों पर पारंपरिक बाघ, बाटिक और ब्लॉक प्रिंटिंग की नई श्रंृखला को लेकर अनेक व्यवासायी बहुत उत्साहित दिखे.

Related Posts: