हम्बनटोटा, 22 जुलाई. नए सत्र में टीम इंडिया की विजयी शुरूआत के सूत्रधार विराट कोहली का कहना है कि उन्हें तिरंगे के लिए खेलने से प्रेरणा मिलती है और वह देश के लिए हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहते हैं.

विराट ने यहां श्रीलंका के खिलाफ पहले वनडे में मिली 21 रन की जीत के बाद कहा कि जब मैं भारतीय जर्सी पहनकर मैदान में उतरता हूं तो मुझे प्रेरणा मिलती है. मैं इससे एक जिम्मेदारी समझता हूं और देश के लिए हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करता हूं. इस जीत के साथ ही भारत ने पांच मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है. भारतीय उपकप्तान ने कहा कि मैं खुद को भाग्यशाली समझता हूं कि मैं लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा हूं. मेरी कोशिश हमेशा मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करने की होती है ताकि मेरी टीम सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल कर सके.

विराट ने 133 गेंदों में 106 रन की बेशकीमती पारी खेली और उन्हें मैन आफ द मैच घोषित किया गया. गौतम गंभीर के जल्दी आउट होने के बाद विराट ने विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग (96) के साथ दूसरे विकेट के लिए 173 रन की साझेदारी भारत को सुखद स्थिति में पहुंचाया. विराट का यह कुल 12वां वनडे शतक और पिछली पांच पारियों में चौथा शतक था. उन्होंने कहा कि सत्र की शुरआत शतक से करना मेरे लिए काफी अच्छा संकेत है और मुझे उम्मीद है कि मैं इस आगे भी इसी प्रदर्शन को जारी रखूंगा. पिछले सत्र में आस्ट्रेलिया दौरे पर अच्छे प्रदर्शन से मेरा आत्मविश्वास बढ़ा है. उन्होंने कहा कि भारतीय पारी के समय मैदान में चल रही हवा ने बड़ी भूमिका अदा की. उन्होंने कहा कि रात के समय गेंद तेजी से बल्ले पर आ रही थी. हमने मैदान पर कुछ गलतियां की क्योंकि हम यहां पहली बार खेल रहे थे.

धमाकेदार वापसी करेंगे : माहेला

श्रीलंका के कप्तान माहेला जयवर्धने ने कहा है कि उनकी टीम भारत के खिलाफ पहला वनडे हारने बावजूद कतई निराश नहीं है और वह पांच मैचों की इस सीरीज में धमाकेदार अंदाज में वापसी करने को बेताब है.

माहेला ने पहला वनडे 21 रन से गंवाने के बाद कहा कि मैं मानता हूं कि भारत जैसी स्तरीय टीम के खिलाफ हमने बहुत सारी गलतियां की. बड़े स्कोर का पीछा करते हुए हमें अपने पीछे के बल्लेबाजों के लिए अच्छा प्लेटफार्म बनाना चाहिए था. लेकिन हमने ऐसा नहीं कर पाए. उन्होंने कहा कि कुमार संगकारा ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की लेकिन दूसरे छोर से उन्हें अपेक्षित सहयोग नहीं मिला. हमारे पास आक्रामक शाट खेलने वाले कुछ बल्लेबाज थे लेकिन हमने उनके लिए बहुत रन छोड़ दिए थे. संगकारा ने 133 रन की शानदार पारी खेली लेकिन वह टीम को जीत की मंजिल पर नहीं पहुंचा सके.

श्रीलंकाई कप्तान ने कहा कि पावरप्ले में हमारे पास नुवान कुलशेखरा और लसित मलिंगा के रूप में दो ऐसे गेंदबाज हैं जिन पर मैं आंख मूंदकर भरोसा कर सकता हूं. लेकिन हमें मैदान पर अपने प्रदर्शन को सुधारने की जरूरत है. श्रीलंका को जीत के लिए 315 रन का लक्ष्य मिला था लेकिन टीम निर्धारत ओवरों में नौ विकेट पर 293 रन ही बना सकी और 21 रन से मुकाबला हार गयी. माहेला ने कहा कि इस हार से हमें मायूस होने की जरूरत नहीं है. हम अपनी कमजोरियों को दूर करने पर ध्यान देंगे और सीरीज में धमाकेदार वापसी करेंगे. सीरीज का दूसरा मैच मंगलवार को इसी मैदान पर खेला जाएगा.

Related Posts: