नई दिल्ली, 2 सितंबर. गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले में आरोपी अरुणा चड्ढा ने कहा है कि गीतिका ने इसलिए आत्महत्या की थी क्योंकि वह अपने पैरंट्स और भाई से अपसेट थी। रोहिणी कोर्ट में अरुणा की जमानत पर सुनवाई हुई और अगली सुनवाई 5 सितंबर को होगी।

अरुणा की ओर से पेश सीनियर एडवोकेट रमेश गुप्ता ने दलील दी कि अरुणा की 7 साल की बेटी है और उसको उसकी देखभाल करनी है। ऐसे में अरुणा को जमानत दी जानी चाहिए। गुप्ता ने कहा कि गीतिका शर्मा के आत्महत्या से संबंधित मामले में अरुणा का कोई लेना-देना नहीं है। गीतिका ने आत्महत्या इसलिए की थी क्योंकि वह अपने भाई और पैरंट्स से अपसेट थी। वह लगातार दुखी थी क्योंकि उसके पैरंट्स खुश नहीं थे। गीतिका शर्मा के सूइसाइड नोट का हवाला देते हुए गुप्ता ने दलीलें पेश कीं और कहा कि गीतिका ने जो भी कदम उठाए उसके लिए अरुणा जिम्मेदार नहीं है। गुप्ता ने कहा कि अरुणा इस मामले में 8 अगस्त से ही हिरासत में है और पुलिस को जितनी पूछताछ करनी थी, वह कर चुकी है।

अब अरुणा को हिरासत में रखने का कोई मतलब नहीं है। इस मामले में पुलिस की ओर से दलील पेश की जानी बाकी है अगली सुनवाई 5 सितंबर को होगी। गीतिका शर्मा ने 5 अगस्त को आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल गोयल कांडा और अरुणा चड्ढा को आरोपी बनाया गया है। दोनों फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। गीतिका के सूइसाइड नोट में कांडा और अरुणा का जिक्र था।

Related Posts:

मांझी ने मैदान छोड़ा
अशोबा का आतंक: चक्रवाती तूफान से देश के उत्तर-पश्चिमी हिस्सों में भारी बारिश की ...
फर्जी डिग्री मामला: दिल्ली के कानून मंत्री गिरफ्तार
1993 ब्लास्ट: सुप्रीम कोर्ट में याचिका खारिज, नागपुर जेल में बंद याकूब को 30 को...
दिल्ली समेत उत्तर भारत में भूकंप के झटके, तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.6 मापी गई
राहुल ने एनएसजी मामले में मोदी पर साधा निशाना