राज्यपाल ने मेनिट के नवगठित छात्र परिषद सदस्यों को शपथ दिलाई

भोपाल, 17 अक्टूबर. राज्यपाल राम नरेश यादव ने आज यहां मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भोपाल की नवगठित छात्र परिषद के अध्यक्ष और सदस्यों के शपथ ग्रहण समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि नई प्रौद्योगिकी और देश के पारम्परिक ज्ञान के समन्वित और संतुलित उपयोग से विकास के नये आयाम प्राप्त किये जा सकते हैं.

उन्होंने कहा कि विश्व स्तरीय तकनीक और नई प्रौद्योगिकी को हमें इस प्रकार अपनाना है कि हमारी देशज परम्पराओं और क्रियान्वयन की प्रणालियों को कोई नुकसान न पहुंचे. इस अवसर पर राज्यपाल यादव ने मेनिट की नवगठित परिषद के अध्यक्ष श्री शिवांश माथुर और 17 अन्य प्रतिनिधियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. पूर्व में राज्यपाल ने दीप जलाकर शपथ ग्रहण समारोह का पारम्परिक शुभारम्भ किया. राज्यपाल यादव ने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और नई तकनीकी अनुसंधानों के लिहाज से मेनिट प्रदेश की अग्रणी संस्था है. उन्होंने कहा यह संस्थान देश को उत्कृष्ट टेक्नोक्रेटस उपलब्ध कराता है. संस्थान के पूर्व छात्रों ने भी अपने-अपने क्षेत्रों में कामयाबी के उच्च मापदंड तय किये हैं. इसके लिये राज्यपाल ने संस्थान के विद्वान शिक्षकगणों की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने छात्रों को समय और समाज की आवश्यकताओं के अनुरूप उद्देश्यपरक शिक्षा दी है और जीवन में संस्कार और मूल्यों का महत्व भी छात्रों को समझाया है. उन्होंने छात्रों से कहा कि वे अपने ज्ञान और कौशल का अधिकतम उपयोग देश के गांवों और खेतों के लिये करें जिससे हमारे गांव खुशहाल बन सकें.

उन्होंने छात्रों से पानी, बिजली और प्रदूषित पर्यावरण जैसी बुनियादी लेकिन भयावह होती समस्याओं के समाधान के लिए अपने तकनीकी ज्ञान का भरपूर उपयोग करने का आग्रह किया. संस्थान के निदेशक अप्पू कुट्टन के.के ने स्वागत भाषण देते हुए कहा कि यह संस्थान निरंतर अनुसंधान, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और अधोसंरचना को मजबूत करते हुए जल्दी ही देश के सर्वश्रेष्ठ तकनीकी संस्थान बन जायेगा. उन्होंने कहा कि इस संस्थान की छात्र परिषद का गठन चुनाव से नहीं, बल्कि छात्रों की आम सहमति से किया गया है. मेनिट के अध्यक्ष ए.एन. सिंह ने कहा कि आज भी यह संस्थान एक उच्च पायदान पर है. उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि देश के प्रौद्योगिकी संस्थानों में हमारा पाचवां और इंजीनियंरिग संस्थानों में 100 में से 22वां स्थान है. उन्होंने कहा शिखर पर पहुंचने के लिए सफर थोड़ा सा ही बाकी है. सपना सच ही होने वाला है. समारोह को सम्बोधित करते हुए नवगठित छात्र परिषद के अध्यक्ष शिवांश माथुर ने कहा कि छात्र शक्ति इतनी मजबूत होती है कि वह क्रांति ला सकती है. उन्होंने कहा कि युवा ऊर्जा को सृजनात्मक और रचनात्मक कार्यों में लगाने के लिए सही दिशा निर्देशों और मार्ग दर्शन की जरूरत होती है.

अपने प्रति विश्वास जताने के लिए छात्रों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि वे सभी साधन और सुविधाएं इस संस्थान में उपलब्ध कराई जायेगी जो गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और छात्रों के गुणतात्मक विकास के लिए आवश्यक होंगी. इस अवसर पर राज्यपाल राम नरेश यादव और अध्यक्ष ए.एन. सिंह को संस्थान के निदेशक अप्पू कुटटन के के ने स्मृति चिन्ह भेंट किये. पंकज स्वर्णकार ने समारोह का अत्यंत खूबसूरती से संचालन किया. परिषद की जनरल सेक्रेटरी सुश्री शिवी जायसवाल ने अतिथियों और उपस्थितजनों के प्रति आभार व्यक्त किया. कार्यक्रम का समापन वंदे मातृम के मधुर गायन और एक समुह नृत्य के साथ सम्पन्न हुआ.

Related Posts: