लखनऊ, 15 नवंबर. उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने छोटे राज्यों की वकालत करते हुए कहा कि बहुजन समाज पार्टी उत्तर प्रदेश के पुनर्गठन के पक्ष में है। छोटे राज्यों से आम जनता को ज्यादा फायदा होता है।

माया ने कहा कि वह 21 नवंबर को शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में यूपी को चार नए राज्यों में बांटने का प्रस्ताव पेश करेंगी। उत्तर प्रदेश को चार राज्यों में बांटने के ऐलान पर प्रदेश की समाजवादी पार्टी ने कहा कि विधानसभा में सरकार के इस फैसले के प्रस्ताव का विरोध करेगी।  भाजपा ने भी फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि मायावती मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रही हैं। मंगलवार को राजधानी लखनऊ में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि यूपी कैबिनेट ने राज्यों को बांटने के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है।

21 नवंबर को शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में प्रस्ताव को पास कराकर इसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। जिन चार नए राज्यों के गठन का प्रस्ताव तैयार किया गया है उनमें अवध, पूर्वांचल, बुंदेलखंड और पश्चिम उत्तर प्रदेश के नाम शामिल हैं। माया ने कहा कि राज्य को विशेष पैकेज देने के मुद्दे पर केंद्र सरकार का रूख सही नहीं है। उन्होंने केंद्र को कई बार चि_ी लिखकर मदद मांगी, लेकिन केंद्र सरकार की ओर से इस दिशा में कोई पहल नहीं की गई। माया ने सवाल किया कि आखिर विकास की दौड़ में उत्तर प्रदेश के पिछडऩे का दोषी कौन है?

Related Posts: