मीरपुर, 15 मार्च. एशिया कप में भारत के पहले मैच में श्रीलंकाई गेंदबाजों के छक्के छुड़ाने वाले भारतीय बल्लेबाजों गौतम गंभीर और विराट कोहली को मीरपुर का शेरे बंगाल स्टेडियम खूब रास आ रहा है.

गंभीर और विराट ने इस मैदान लगातार बढिय़ा प्रदर्शन किया है और यही कारण है कि इस मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने वालों विदेशी खिलाडिय़ों की सूची में गंभीर पहले तो विराट दूसरे स्थान पर हैं. गंभीर ने यहां 12 मैचों में 608 रन तो विराट ने मात्र सात मैचों से 483 रन बनाये हैं. विराट ने इसी मैदान पर गत वर्ष विश्व कप के पहले मैच में नाबाद शतक जड़ा था. इस तरह इस मैदान पर उन्होंने लगातार दो पारियों में शतक जड़ा है. उनका इस मैदान पर 120.75 का शानदार औसत रहा है और उनकी स्ट्राइक रेट यहां 98.97 है. मंगलवार की अपनी शतकीय पारी के दौरान विराट ने यहां सर्वाधिक रन बनाने के मामले में हमवतन वीरेन्द्र सेहवाग (478) को पीछे छोड़ा था. इस मैदान पर विराट ने तीन शानदार शतक और दो अर्धशतक लगाये हैं.

वह 2010 में इसी मैदान पर नाबाद 102, नाबाद 71 और 91 रन की पारियां खेल चुके हैं. गंभीर का यहां 55.27 का औसत है और उन्होंने भी तीन शतक तथा दो अर्धशतक लगाये हैं.
गत चैंपियन भारतीय टीम यहां शुक्रवार को अपने दूसरे मुकाबले में मेजबान बांग्लादेश से भिडऩे उतरेगी और इन दोनों बल्लेबाजों के हाल के लय को देखकर उनसे काफी उम्मीदें रहेंगी. साल भर से अपने 100वें अंतर्राष्ट्रीय शतक का इंतजार कर रहे अनुभवी बल्लेबाज सचिन तेंदुललकर के पिछले मैच में जल्द आउट होने से विराट शुरूआती ओवरों में ही मैदान में उतर गये थे और फिर उन्होंने जिस तरह से पारी को संवारा उससे साथी बल्लेबाजों का भी उत्साह बढ़ा. विराट इन दिनों उप कप्तान की भी भूमिका निभा रहे हैं. इसके बावजूद उन्होंने पहले मैच में दबावमुक्त प्रदर्शन किया. उनके साथ गौतम गंभीर ने भी अच्छे हाथ दिखाये थे. गौतम फिर से सलामी बल्लेबाज के तौर पर उतरेंगे और इस बार निश्चित रूप से उनसे प्रशंसक तथा टीम साथी ज्यादा उम्मीदें पाले रखेंगे.

पिछले मैचों की ही तरह इस मैच में भी क्रिकेटप्रेमी सचिन का महाशतक पूरा होने का इंतजार कर रहे होंगे. सचिन का यह इंतजार जितना लंबा खिंच रहा है, उन पर मानसिक दबाव उतना ही बढ़ता जा रहा है. इस बार बांग्लादेश जैसी अपेक्षाकृत कमजोर टीम उनके सामने है तो यह उम्मीद बढ़ जाती है कि कम से कम इस मौके को वह हाथ से जाने नहीं दें. आईपीएल रॉकस्टार रवीन्द्र जडेजा ट्वेंटी-20 मैचों में तो लगातार बेहतर प्रदर्शन करते रहे हैं, लेकिन एकदिवसीय में उन्हें खुद को अब भी साबित करना है. इस मैच में अगर उन्हें मौका मिलता है तो अपनी उपयोगिता उन्हें साबित करनी होगी.

भारतीय टीम में दोबारा अपनी जगह पक्की करने के लिए संघर्ष कर रहे ऑलराउंडर इरफान पठान ने टूर्नामेंट के पहले मैच में किफायती गेंदबाजी के साथ चार विकेट लेकर अच्छी छाप छोड़ी. इसके साथ ही इरफान मीरपुर के मैदान पर सबसे सफल भारतीय गेंदबाज बन गये हैं.
इरफान ने मीरपुर में चार मैचों में आठ विकेट लिये हैं. इस दौरान उनका औसत 22.12 रहा है और उन्होंने 5.36 रन प्रति ओवर की दर से खर्च किये हैं. यहां उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 32 रन देकर चार विकेट है. उन्होंने यह प्रदर्शन मंगलवार को ही किया था.

इस मैदान पर दो अन्य सफलतम भारतीय गेंदबाज पीयूष चावला और हरभजन सिंह टीम के साथ इस बार नहीं हैं. चावला ने यहां चार मैचों में 25.50 के औसत से आठ और हरभजन ने इतने ही मैचों में 26.42 के औसत से सात विकेट लिये हैं. चावला और हरभजन दोनों स्पिनर हैं. इस लिहाज से शुक्रवार के मैच में सबकी निगाहें मौजूदा टीम के एकमात्र रविचंद्रन अश्विन से रहेंगी. फिलहाल अश्विन अपनी भूमिका अच्छी तरह निभा रहे हैं. उन्होंने पहले मैच में किफायती गेंदबाजी के साथ तीन विकेट झटके थे. स्पिन के क्षेत्र में उनका साथ देने के लिए फिलहाल जडेजा, सुरेश रैना और रोहित शर्मा मौजूद हैं. इन तीनों के लिए एक चुनौती समान रूप से है कि इन्हें गेंद और बल्ले दोनों से खुद को ज्यादा उपयोगी साबित करना होगा ताकि भारतीय टीम के नियमित सदस्य के तौर पर उनका दावा ज्यादा मजबूत रह सके.

भारत को 265 तक रोकने की योजना

बांग्लादेश के ऑलराउंडर नासिर हुसैन ने कहा कि एशिया कप में भारत के खिलाफ शुक्रवार को होने वाले मैच में अगर उनके गेंदबाज भारतीय टीम को 260-265 के स्कोर तक रोकने में सफल रहे तो मेजबान टीम जीत की उम्मीद कर सकती है. नासिर ने कहा कि हमें भारत के खिलाफ मैच में जीत का पूरा भरोसा है और इसके लिए हम अपनी पूरी ताकत लगा देंगे. शेरे-बंगला नेशनल स्टेडियम की पिच पर अगर हम भारत को 260-265 तक रोकने में सफल रहे तो फिर हमारे पास जीतने का अच्छा मौका रहेगा. बांग्लादेश को पिछले मैच में पाकिस्तान के हाथों करीबी हार का सामना करना पड़ा था. अनुभवी बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के इस मैच में महाशतक बनाने की संभावना के बारे में पूछने पर बांग्लादेशी ऑलराउंडर ने कहा कि एक अच्छी गेंद पर कोई भी आउट हो सकता है फिर चाहे वह कोई भी बल्लेबाज क्यों न हो. सचिन श्रीलंका के खिलाफ सस्ते में आउट हो गए थे.

Related Posts: