राजधानी में मिसरोद के पास दिया कांग्रेसियों ने धरना

भोपाल 16 मई. गेहूं खरीदी में अनियमितता को लेकर शहर व ग्रामीण क्षेत्र के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मिसरोद के पास तीन घंटे तक प्रदेशाध्यक्ष कांतिलाल भूरिया के नेतृत्व में धरना दिया. इस दौरान भूरिया ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि भाजपा के नेता गेहूं खरीदी में बिचौलियों का काम कर किसानों को लूट रहे हैं.

उन्होंने कहा कि भाजपा को राज्य का किसान आने वाले चुनाव में इसका सबक सिखाएगी. वहीं, प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल ने कहा कि समर्थन मूल्य पर गेहं खरीदी में अव्यवस्था, किसानों की गिरफ्तारी और मंडी अध्यक्ष के चुनाव की प्रत्यक्ष पद्धति की समाप्ति के विरोध में कांग्रेस के आव्हान पर आज पूर्वान्ह 11 से अपरान्ह 2 बजे तक धरना-प्रदर्शन का कार्यक्रम राज्य के सभी जिला मुख्यालयों और ब्लाक मुख्यालयों पर प्रभावशाली रूप में संपन्न हुआ. गुना में कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज के अलावा अन्य सभी जिला और ब्लाक मुख्यालयों पर कार्यक्रम शांतिपूर्ण रहा. धरना-प्रदर्शन में भारी संख्या में किसानों की उपस्थिति विशेष उल्लेखनीय रही. इस अवसर पर आयोजित सभा में किसानों ने भी समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी की अपनी कठिनाइयां बयान की. धरना-प्रदर्शन के दौरान उन 11 हजार शहीद किसानों को दो मिनट की मौन श्रद्धांजलि भी अर्पित की गई, जिनको पिछले वर्षों में भाजपा सरकार की किसान विरोधी रीति-नीति के कारण अपने प्राण गंवाना पड़े हैं.

कुछ किसान गेहूं भरी ट्राली सहित धरने में शामिल हुए. इस अवसर पर भूरिया ने कहा कि जब तक किसानों के गेहूं का एक-एक दाना समर्थन मूल्य पर नहीं खरीद लिया जाएगा, कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी रहकर उनके हित में अपनी लड़ाई को विभिन्न रूपों में जारी रखेगी. धरना-प्रदर्शन की समाप्ति पर  भूरिया ने कांग्रेस के प्रादेशिक और जिला पदाधिकारियों एवं किसानों के साथ मिसरोद के दोनों खरीदी केंद्रों का निरीक्षण भी किया और वहां मौजूद किसानों तथा कर्मचारियों से खरीदी एवं परिवहन व्यवस्था के बारे में जानकारी ली. आपने केंद्रों पर हजारों की संख्या में गेहं से भरे बोरों को देखकर कहा कि इससे जाहिर है कि खरीदे गए गेहूं के परिवहन का इंतजाम ठीक नहीं है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने धरना-प्रदर्शन स्थल पर सभा को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि असली किसानों को तो गेहंू बेचने के लिए खरीदी केंद्रों और मंडियों में कई दिन चक्कर काटना पड़ रहा है और भाजपा के दलाल सार्वजनिक वितरण प्रणाली का 700-800 रूपये क्विंटल वाला गेहूं 1385 रूपये के समर्थन मूल्य पर बेचकर अपनी जेबें भर रहे हैं. शिवराज की सरकार कुंभकर्णी नींद में सोयी है. कांग्रेस उसको जगाकर और किसानों को न्याय दिलवाकर ही चुप बैठेगी.

राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी सहित किसानों की ज्वलंत समस्याओं को लेकर कांग्रेस के प्रदेशव्यापी धरना-प्रदर्शन की समाप्ति के बाद आज शाम को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने राजभवन में राज्यपाल रामनरेश यादव से भेंट कर उन्हें एक ज्ञापन सौंपा. राज्यपाल ने प्रतिनिधि मंडल को गंभीरता से सुना और ज्ञापन में शामिल सभी मुद्दों पर समुचित कार्यवाही के के संबंध में प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त किया.

कांग्रेस के ज्ञापन में प्रदेश के किसानों के हितों से संबंधित 13 महत्वपूर्ण मांगें शामिल हैं, जिनमें गेहूं खरीदी केंद्रों और मंडियों में भाजपा के दलालों की दखलंदाजी को तत्काल रोकने की महत्वपूर्ण मांग भी है.  अग्रवाल ने बताया है कि कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल द्वारा ज्ञापन के माध्यम से उन किसानों और किसान नेताओं को बिना शर्त तत्काल रिहा करने की मांग की गई है, जिनको पिछले दिनों किसानों की न्यायोचित आवाज उठाने पर गिरफ्तार किया गया है. कांग्रेस ने खरीदी केन्द्रों और मंडियों में किसानों के लिए मैत्रीपूर्ण वातावरण के निर्माण के साथ-साथ गेहूं तुलाई में राजनीतिक आधार पर बरते जा रहे भेदभाव को तत्काल समाप्त करने तथा किसानों से गेहूं की तुलाई के पूर्व हो रही चौथ वसूली को सख्ती से रोकने की मांग भी की गई है.

Related Posts: