कोयम्बटूर, 10 जनवरी. वायुसेना को ब्रह्मोस मिसाइलों से एक साल के अंदर लैस किए जाने की संभावना के बीच ब्रह्मोस-2 बनाने के लिए काम शुरू कर दिया गया है.

यह दुनिया की सबसे तेज गति वाली हाइपरसोनिक मिसाइल होगी, जिसे अंतिम रूप देने में पांच साल का वक्त लगेगा. ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक ए शिवतनु पिल्लई ने बताया, ‘ब्रह्मोस मिसाइल अपनी तीन मैक की गति (ध्वनि की चाल) से प्रति सेकेंड एक किलोमीटर की दूरी तय करती है, वहीं हाइपरसोनिक मिसाइल छह से सात मैक की गति वाली होगी जो मौजूदा मिसाइलों की गति की दोगुनी होगी.’ पिल्लई ने कहा, ‘हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने के लिए हमारे पास दिशा-निर्देश और प्रौद्योगिकी है.

Related Posts: