narendra_giriउज्जैन,  सिंहस्थ के पूर्व अखाड़ों के आपसी विवादों से घबराई सरकार और दुविधा में उलझे साधु समाज की चिंता आज उस समय दूर हो गई.

जब सरकार द्वारा बुलाई गई बैठक में सभी 13 अखाड़ों के मंहत व प्रतिनिधि शामिल हुए. बैठक में शाही स्नान और पेशवाई की तिथियां तय की गई. विवाद पर लगे विराम से आज साधु और सरकार गद्गद् नजर आये.

जहां प्रभारी मंत्री ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष की उदारता की प्रशंसा की वही परिषद के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को अगले सिंहस्थ तक के लिये पद पर बने रहने का आशीर्वाद दिया. प्रशासन ने इस महत्वपूर्ण बैठक के बाद अखाड़ों के प्रतिनिधियों व सामाजिक सद्भाव का संदेश देने के लिये मुस्लिम, बोहरा, इसाई, सिख समुदाय के प्रतिनिधियों को सामूहिक भोज में शामिल किया गया था.
अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष पद को लेकर लंबे समय से विवाद की स्थिति चल रही थी.

Related Posts:

मायावती का मास्टर स्ट्रोक, विरोध सकते में
तेरी मेरी कहानी में तीन जंगली बिल्ली
बिल पर बवाल, चौतरफा घिरी सरकार
तहसीलदार का रीडर रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ाया
गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार : 11 दोषियों को उम्र कैद, 12 को सात सात साल, एक को 10 सा...
आतंकियों की संभावित घुसपैठ के मद्देनजर महोबा से सटी मध्य प्रदेश की सीमा पर बढी च...