हृदय विदारक घटना को देख लोगों की आंखों से छलके आंसू.

नवभारत न्यूज छतरपुर,

सिविल लाइन थाना इलाके के बगौत गांव के मजरा चमरुआपुरवा में सोमवार को दोपहर के वक्त एक झोपड़े में लगी आग में जलकर वहां मौजूद तीन मासूम बच्चियों की दर्दनाक मौत हो गयी.

घटना की सूचना पाकर कलेक्टर रमेश भंडारी, एसपी विनीत खन्ना और सिविल लाईन थाना टीआई अरविन्द्र कुजूर घटनास्थल पर पहुंचे.

जानकारी के अनुसार आगजनी की घटना में जो तीन बच्चियां जलकर मरी हैं उनमें राखी पिता भगवानदास 3 साल, नीनू पिता प्यारेलाल अहिरवार 8 साल, सीता पिता गुलजारी अहिरवार 5 साल शामिल हैं. घटना के संबंध में जानकारी मिली है कि चमरुआपुरवा में पीडि़त परिवार प्यारे लाल अहिरवार द्वारा एक झोपड़ा बनाया गया था. झोपड़ा मचान की तरह दो मंजिला बना हुआ था.

दोपहर बाद यह तीनों बच्चियां झोपड़ी के अंदर खेल रही थी और खेल-खेल में बच्चियों ने झोपड़े में आग जलाई और आग जलती हुई छोडक़र मचान के ऊपर चढ़ गयी तभी आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और आग इतनी तेज हो गयी कि तीनों बच्चियां आग की चपेट में आकर जिंदा जल गयीं.

आग लगने की घटना देखकर अन्ग बच्चियां माला और खूशबू बताने के लिए दौड़ी तब लोगों को इस घटना के बारे में पता लगा. इस हृदयविदारक घटना को देखकर लोगों के आंखों में आंसू झलक आये. दो बच्चियां प्यारे लाल अहिरवार के रिश्तेदार गुलजारी और भगवानदास की बताई जाती हैं. बताया गया है कि सभी मजदूरी करते हैं.

Related Posts: