एशेज सीरीज का पहला टेस्ट आज से

  • दोनों टीमों के खिलाड़ी दे रहे एक-दूसरे को चेतावनी
  • गाबा के मैदान पर आस्ट्रेलिया का इंग्लैंड के खिलाफ रिकार्ड अच्छा है
  • इंग्लैंड की टीम 1986 के बाद इस मैदान पर जीती नहीं है

ब्रिसबेन,

भारत और पाकिस्तान की तरह क्रिकेट के मैदान की एक अन्य सबसे रोमांचक जंग यदि कोई है तो वह आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच प्रतिष्ठित एशेज सीरीज है. कल से गाबा के मैदान पर ये दोनों ही टीमें अपनी इस मैदानी जंग के लिये फिर से जी-जान लगाने उतरेंगी.

वर्ष 2013 से 2015 के बीच तीन वर्षों में दो सीरीज के बाद आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड अपनी प्रतिद्वंद्विता फिर से यहां गाबा के मैदान में शुरू करेंगे. एक ओर जहां कप्तान स्टीवन स्मिथ के लिये अपने घरेलू मैदान पर टीम को जीत दिलाने का भारी दबाव है तो दूसरी ओर अन्य युवा कप्तान इंग्लैंड के जो रूट के लिये विपक्षी टीम के मैदान पर इतिहास रचने का दबाव और मौका दोनों हैं.

आस्ट्रेलियाई टीम के पास कल से एशेज सीरीज के पहले मैच में जीत के साथ अच्छी शुरूआत करने का मौका है क्योंकि ब्रिसबेन में उसका बेहतरीन रिकार्ड है जहां वह पिछले 29 वर्र्षोंं से अपराजेय है. हालांकि वर्ष 2010-11 में एलेस्टेयर कुक की कप्तानी में इंग्लैंड ने पहले मैच में हार टालते हुये मैच ड्रा कराया था.

आस्ट्रेलिया ने वर्ष 1988 से ही गाबा में टेस्ट नहीं हारा है और इंग्लैंड 1986 से यहां जीता नहीं है. ऐसे में रूट की इंग्लिश टीम के लिये यहां जीत का सूखा समाप्त करने का सुनहरा मौका है. इंग्लैंड ने पिछली पांच एशेज सीरीज़ में से चार में जीत दर्ज की है जबकि 2013-14 में आस्ट्रेलिया विजेता बना था.

आस्ट्रेलिया के लिये भी इस बार सीरीज अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिहाज से अहम है. उसकी टीम में स्मिथ, डेविड वार्नर, जोश हेजलवुड, मिशेल मार्श और मिशेल स्टार्क का अनुभव काम आयेगा जो इंग्लैंड से पिछली हारी हुई चार सीरीज में टीम का हिस्सा रहे थे.

वहीं इंग्लैंड की टीम में 2015 की पिछली सीरीज के छह खिलाड़ी एलेस्टेयर कुक, जो रूट, जॉनी बेयरस्टो, मोइन अली, स्टुअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन महत्वपूर्ण साबित होंगे.

23 नवंबर से इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एशेज सीरीज शुरू होने जा रही है. उससे पहले ही दोनों टीमों के बीच एक-दूसरे पर दबाव बनाने का काम शुरू हो गया है. इसी क्रम में अब ऑस्ट्रेलिया कप्तान ने इंग्लैंड को चेतावनी दी है.

Related Posts: