नवभारत न्यूज भोपाल,

सोमवार 2 अप्रैल से प्रदेश भर के 108 एम्बुलेंस कर्मचारी 8-8 घंटों की दो शिफ्टों में 16 घंटे ही काम करेंगे बाकी 8 घंटे के लिये 108 सेवा बंद रहेगी.

कर्मचारियों का कहना है कि सुबह 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक पहली शिफ्ट और दोपहर दो बजे से रात 10 बजे तक दूसरी शिफ्ट में ही कार्य करेंगे. बाकी रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक 108 एम्बुलेंस को संबंधित थाने या जिला अस्पताल में खड़ा कर दिया जायेगा. यहां बता दें कि 108 कर्मचारी जिगित्सा हेल्थकेयर लिमिटेड के कर्मचारी हैें और 8 घंटे काम को लेकर कर्मचारियों ने 108 एम्बुलेंस कर्मचारी संघ म.प्र. के तत्वावधान में 12 मार्च को एक बैठक रखी थी.

इस बैठक में सोमवार 8 अप्रैल से 8 घंटे काम करने का निर्णय कर्मचारियों द्वारा लिया गया था एवं इसकी सूचना मुख्यमंत्री, श्रमायुक्त, संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन एवं प्रबंध संचालक और प्रबंधक, जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड को दे दी गई थी.

इस संबंध में 16 मार्च को डॉ. बृजेश सक्सेना मुख्य प्रशासकीय अधिकारी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) मध्यप्रदेश ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड को पत्र लिख निर्देशित किया है कि 108 एम्बुलेंस सेवा का संचालन किसी भी स्थिति में 24&7 होना सुनिश्चित करें. यदि यह सेवा प्रभावित होती है तो अनुबंध के प्रावधान के अनुसार कम्पनीन के विरुद्ध नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही की जायेगी और इस कार्यवाही की समस्त जिम्मेदारी कम्पनी की होगी.

108 एम्बुलेंस कर्मचारियों का कहना है कि हम से लगातार 24 घंटे काम करवाया जा रहा है, जिससे हम पर मानसिक तनाव रहता है और 8 घंटे से अधिक काम करने पर ओवर टाइम भी नहीं दिया जाता. जबकि पिछले वर्ष इसको लेकर 108 एम्बुलेंस कर्मचारियों ने 11 दिवस की हड़ताल भी की थी, जहां श्रम विभाग से एक पत्र जारी किया गया था. जहां 8 घंटे काम करने के नियम का उल्लेख है एवं अधिक काम कराने पर ओवर टाइम दिये जाने का भी उल्लेख इस पत्र में किया गया.

सोमवार से 8 घंटे श्रम नियम के अनुसार काम करेंगे. अधिक काम करने से हम पर मानसिक दबाव रहता है. हमें ओवर टाइम भी नहीं दिया जाता.
-रामस्वरूप शर्मा, प्रांताध्यक्ष
 108 एम्बुलेंस कर्मचारी संघ