अमेरिका ने आतंकवाद समर्थक राष्ट्रों की लिस्ट में डाला, चीन ने कहा- बातचीत जारी रहे

पेइचिंग, अमेरिका नॉर्थ कोरिया पर लगातार प्रतिबंध लगाकर मिसाइल और परमाणु कार्यक्रमों को बंद करने का दबाव डाल रहा है. इसी दबाव को बढ़ाने के लिए अमेरिका ने नॉर्थ कोरिया को आतंकवाद को समर्थन देने वाले राष्ट्रों की सूची में डाल दिया है.

उधर, चीन ने एक बार फिर कहा है कि नॉर्थ कोरिया नाभिकीय संकट के हल के लिए अतिरिक्त प्रयासों की जरूरत है. पेइचिंग नॉर्थ कोरिया के साथ स्टैंडऑफ खत्म करने के लिए लगातार बातचीत की संभावना पर जो देता चला आ रहा है.

कुछ विश्लेषकों का यह भी मानना है कि टेरर सपॉर्ट नेशन के तौर पर नॉर्थ कोरिया की रीब्रैंडिंग कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव को और बढ़ाएगी. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा कि हमें अभी भी उम्मीद है कि सभी सक्षम पक्ष तनाव खत्म करने में सहभागिता निभा सकते हैं.

उन्होंने कहा कि इससे जुड़े सारे पक्ष बातचीत शुरू कर सकते हैं और कोरियाई प्रायद्वीप का तनाव बातचीत सही रास्ते से हो सकता है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इस दिशा में अधिक प्रयास होने चाहिए. चीन ने नॉर्थ कोरिया के साथ विवाद के खात्मे के लिए ड्यूल ट्रैक अप्रोच की बात की थी.

इसके तहत एक ओर अमेरिका साउथ कोरिया में अपनी मिलिटरी ड्रिल को बंद करता, दूसरी ओर नॉर्थ कोरिया नाभिकीय कार्यक्रम बंद करता.

हालांकि चीन के इस अप्रोच को कोई तवज्जो नहीं मिल पाई थी. ट्रंप ने रविवार को उत्तर कोरिया को आतंकवाद का प्रायोजक घोषित किया. ट्रंप ने वाइट हाउस कैबिनेट बैठक के प्रारंभ में इसकी घोषणा करते हुए कहा, यह काफी पहले हो जाना चाहिए था. यह सालों पहले हो जाना चाहिए था.

हालांकि अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन का कहना है कि उत्तर कोरिया को आतंकवाद को समर्थन देने वाले राष्ट्रों की सूची में डालना प्योंगयांग पर दबाव बनाने की रणनीति का हिस्सा है. उन्होंने कहा कि अमेरिका का लक्ष्य उत्तर कोरिया के हालिया कदमों के लिए उसकी जवाबदेही तय करना है.

दुनिया को परमाणु तबाही की धमकी देने के अलावा उ कोरिया ने बार बार अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का समर्थन किया है जिसमें विदेशी धरती पर हत्याएं भी शामिल है. प्रायोजक शब्द उस पर और अधिक प्रतिबंध लगाएगा और उसे अलग थलग करने में हमारे अभियान का समर्थन करेगा.                                   -डोनाल्ड ट्रंप, राष्ट्रपति अमेरिका

हम होंगे और मजबूत

उत्तर कोरिया के की प्रगति को रोकने के शत्रु ताकतों के प्रयासों ने उत्तर कोरियाई श्रमिकों की अदम्य भावना को और मजबूत बनाया है और उन्हें दुनिया को चौंका देने वाला कार्य करने के लिए प्रेरित किया है.
-किम जोंग उन, शासक
उत्तर कोरिया

 

Related Posts:

रूस के साथ रहेगा परमाणु सहयोग
मंदी के बावजूद भारत रहेगा वैश्विक आकर्षण का केंद्र : विश्व बैंक
विश्व के 100 प्रभावशाली हस्तियों में राजन,सानिया और प्रियंका शामिल
अफगानिस्तान में सैनिकों की संख्या में बढ़ोत्तरी पर अभी कोई निर्णय नहीं: पेंटागन
संरा ने उत्तर काेरिया पर प्रतिबंधों को दी मंजूरी
मुशर्रफ हैं लश्कर के सबसे बड़े पिट्ठू