राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मणिपुर, नागालैंड तथा मध्यप्रदेश के युवा दल ने की भेंट.

  • युवाओं में हो संस्कृति व विचारों का आदान प्रदान

भोपाल,

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि युवा ही देश के विकास और एकता के कर्णधार हैं. हमारे देश के सीमावर्ती प्रांतों के युवाओं में अलगाव की सोच को खत्म करने के लिए एक भारत-श्रेष्ठ भारत की भावना विकसित करने की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि युवाओं में देश की विविधतापूर्ण संस्कृति एवं विचारों का आदान-प्रदान होना चाहिये.
राज्यपाल ने नेहरू युवा केन्द्र द्वारा आयोजित अंतर्राज्यीय युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम में आये मणीपुर,नागालैंड एवं मध्यप्रदेश के छात्र-छात्राओं से राजभवन में भेंट के दौरान यह बात कही.

इस अवसर पर राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ एम मोहन राव, संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव मनोज श्रीवास्तव, और नेहरू युवा केन्द्र के निदेशक मनोज समालिया उपस्थित थे.भारत के हर प्रांत को जोडऩे का प्रयास हो राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के हर प्रांत के विकास के लिये सबका साथ- सबका विकास नारा दिया है. उन्होंने कहा कि हमारे देश की पूर्वोत्तर सीमाओं पर आज चीन और पाकिस्तान के द्वारा चुनौतियां और कठिनाईयां उत्पन्न की जा रही हैं.

राज्यपाल ने कहा कि मैंने स्वंय देश की पूर्वोत्तर सीमा पर जाकर सैनिकों से भेंट कर यह अनुभव किया है कि वे किस प्रकार सवा सौ करोड़ देशवासियों की सुरक्षा कर रहे हैं. ऐसे में हमें अपनी सेनाओं के साथ कदम से कदम मिलाकर पूर्ण सहयोग कर उनका मनोबल बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए.

राज्यपाल ने कहा कि भारत के हर प्रांत को एक दूसरे से जोडऩे का प्रयास किया जाये ताकि जिस प्रांत में पानी ज्यादा है, वहां से सूखाग्रस्त प्रांतों में पानी पहुंचाया जा सके, इससे हर प्रांत समृद्ध और विकसित हो सकेगा. राज्यपाल पटेल ने कहा कि हमें हमारी संस्कृति पर गर्व करना चाहिए. जब तक हम हमारे अतीत के गौरव से परिचित नहीं होंगे, तब तक हमारे अंदर राष्ट्रबोध का भाव जागृत नहीं होगा.

स्मारिका विमोचन

राज्यपाल पटेल ने नेहरू युवा केन्द्र की स्मारिका का विमोचन किया तथा युवाओं को स्मृति चिंह भेंट किये. नेहरू युवा केन्द्र द्वारा राज्यपाल को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया. राज्यपाल को मणीपुर, नागालेंड तथा मध्यप्रदेश के युवाओं ने अपने-अपने अनुभव बताये. इस अवसर पर युवाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुत किये.

Related Posts: