मुंबई. खराब मौसम के कारण मलेशिया में कम उत्पादन की खबरों के बीच कच्चे पाम तेल की कीमतें इस महीने करीब 8.5 फीसदी चढ़ गईं. बेंचमार्क बुरसा मलेशिया पर अगले महीने डिलिवरी किए जाने वाले कच्चे पाम तेल की कीमत बुधवार को 2,306 रिंगिट प्रति टन रही जबकि जनवरी के आखिर में 2,125.5 रिंगिट प्रति टन थी. सितंबर, 2014 में साढ़े पांच साल के निचले स्तर 1,900 रिंगिट प्रति टन के स्तर तक पहुंचने के बाद इस जिंस की कीमतों में तेजी आई है. हालांकि उस स्तर से इसकी कीमत करीब एक तिहाई बढ़ी हैं. माना जा रहा है कि कीमतों में तेजी से साबुन और डिटर्जेंट विनिर्माताओं जैसे उद्योगों के मार्जिन में कमी आ सकती है.

कमोडिटी ब्रोकिंग फर्म केडिया कमोडिटी कॉमट्रेड के प्रबंध निदेशक अजय केडिया का कहना है, इंडोनेशिया से बायोडीजल की मांग में संभावित सुधार और मलेशिया में उत्पादन में गिरावट की खबरों के बीच कच्चे पाम तेल की कीमतों में पिछले दिनों काफी सुधार हुआ है. इसमें तेजी की उम्मीद बरकरार है और आने वाले समय में इसकी कीमतें 10 फीसदी और बढ़ सकती हैं.

इस बीच मलेशिया में कच्चे पाम तेल का उत्पादन जनवरी, 2015 में 14.96 फीसदी घटकर 11.6 लाख टन रहा जबकि दिसंबर 2014 में इसका उत्पादन 13.65 लाख टन रहा था. मलेशियाई पाम ऑयल बोर्ड ने 11.8 लाख टन की गिरावट का अनुमान लगाया था जबकि यह गिरावट उम्मीद से कम रही. जनवरी, 2014 में कच्चे पाम तेल का उत्पादन 15.1 लाख टन रहा था. मलेशिया में जनवरी के दौरान इसके उत्पादन में गिरावट का प्रमुख कारण पूर्वी मलेशिया में आई बाढ़ है जिससे इसकी बुआई में कमी आई.

मलेशियाई पाम ऑयल बोर्ड के मुताबिक जनवरी में मलेशिया में पाम तेल का स्टॉक 12.18 फीसदी घटकर 17.7 लाख टन रह गया जो छह महीने का सबसे निचला स्तर है और पिछले साल के इसी महीने के मुकाबले स्टॉक में करीब 2 फीसदी की कमी आई. हालांकि जनवरी में स्टॉक की स्थिति मलेशियाई पाम ऑयल बोर्ड के अनुमान से बेहतर रही. केडिया कहते हैं, बोरनियो क्षेत्र में बाढ़ के कारण इस सीजन में उत्पादन घटकर फरवरी, 2011 के स्तर पर आ जाने की वजह से जनवरी में मलेशिया का पाम तेल स्टॉक घट सकता है जिससे कीमतों को दम मिलेगा.

Related Posts: