अब स्थानीय मुद्दों पर ध्यान देने की तैयारी

भोपाल,

क्या राज्य के विभिन्न भागों से चुनाव पूर्व निकाली जाने वाली कांग्रेस की यात्रायें एवं रैलियां जारी रहेंगी? या फिर इन्हें रोक कर नेताओं को स्थानीय मुद्दों पर ध्यान देने के लिये जिलों में भेजा जायेगा?
अपनी व्यक्तिगत एवं आध्यात्मिक नर्मदा परिक्रमा के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह 15 मई से दूसरी यात्रा शुरू करने वाले थे. सिंह की इस दूसरी राजनीतिक यात्रा का उद्देश्य प्रदेश के सभी 51 जिलों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भरना था. लेकिन दिग्विजय सिंह की यह दूसरी यात्रा पहले तो स्थगित हुई फिर लगता है रद्द हो गई.

प्रदेश कांग्रेस समिति के मीडिया प्रकोष्ठ के चैयरमेन मानक अग्रवाल का इस संबंध में कहना है कि अब यात्राओं के लिये समय नहीं है, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ चाहते हैं कि नेताओं को अब जिलों में जाना चाहिये तथा वहां जाकर चुनाव के लिये काम करना चाहिये. अग्रवाल का कहना है कि हर जिले में अलग-अलग तरह की समस्यायें हैं जो कि प्रदेश के अन्य स्थानों से अलहदा हैं. कांग्रेस को राज्यव्यापी अभियान चलाने की बजाय जमीनी स्तर पर मौजूद समस्याओं पर ध्यान देना चाहिये.

वर्तमान में कांग्रेस की दो प्रमुख यात्रायें प्रस्तावित हैं. एक तो न्याय यात्रा जिसका तीसरा चरण नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की अगुवाई में प्रस्तावित है. इस यात्रा के तीसरे चरण को शुरू करने के लिये पूर्व मंत्री इंद्रजीत पटेल का स्वास्थ्य ठीक होने का इंतजार किया जा रहा है. दूसरी है परिवर्तन यात्रा जो कांग्रेस के गुना के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गत शुक्रवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से शुरू की है.

सिंधिया की यात्रा का पहला चरण बुधवार को सम्पन्न होगा तथा आगे की यात्रा का विवरण उपलब्ध नहीं है. पार्टी के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता तथा सिंधिया के वफादार माने जाने वाले कांग्रेस नेता पंकज चतुर्वेदी का कहना है कि यात्रा के अगले चरण के बारे में अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है. पार्टी के शीर्ष नेताओं की 17 या 18 मई को बैठक होगी जिसमें परिवर्तन यात्रा के अगले चरण के बारे में निर्णय लिया जायेगा.

प्रदेश में कांग्रेस द्वारा दो और यात्रायें भी चलाई जा रही हैं जिनमें एक है अन्य पिछड़े वर्ग के लिये यात्रा जो राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल के नेतृत्व में चलाई जा रही है. दूसरी कलश यात्रा प्रदेश किसान कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुर्जर चला रहे हैं. कलश यात्रा में उन गांवों की मिटटी एकत्रित की जा रही है जहां के किसानों ने भाजपा शासनकाल में आत्महत्या की है.

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का कहना है कि यात्राओं को रोके जाने के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है. न्याय यात्रा का पहला एवं दूसरा चरण पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव तथा नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की अगुवाई में सम्पन्न हो चुका है. तीसरे चरण में सीधी से शुरू होकर सिंगरौली एवं रीवा तक जाना है.

इस संबंध में अजय सिंह का कहना है कि मैं इंद्रजीत पटेल के बिना सीधी से न्याय यात्रा शुरू नहीं कर सकता. पटेल वहां से लोकसभा चुनाव लड़ते हैं. पटेल बीमार हैं और नई दिल्ली के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. सिंह ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने उन्हें यात्रा जारी रखने के लिये कहा है. सिंह ने कहा कि मुझे अन्य यात्राओं के बारे में जानकारी नहीं है लेकिन न्याय यात्रा के संबंध में मैंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से बात की तो उनका कहना है कि मैं यात्रा जारी रख सकता हूं.

Related Posts: