नई दिल्ली, 14 अगस्त. हरियाणा के पूर्व गृह राज्यमंत्री गोपाल गोयल कांडा को पकडऩे के लिए दिल्ली पुलिस अभी तक उसके 100 से अधिक ठिकानों पर रेड डाल चुकी है। करीब 70 लोगों से पूछताछ हो चुकी है, मगर कांडा हाथ नहीं लगा।

अब तक हुई जांच में पता लगा है कि गीतिका को जब एमडीएलआर एयरलाइंस की एक सहायक कंपनी का डायरेक्टर बनाया गया था, तब उसमें शर्त रखी गई थी कि गीतिका रोजाना शाम को कंपनी के चेयरमैन को रिपोर्ट करेगी। पुलिस इसके पीछे कांडा के असली मकसद का पता लगा रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि कांडा से पूछताछ जितनी जरूरी है, उतना ही जरूरी उसके लैपटॉप को हासिल करना है। कांडा के घर और ऑफिस पर मारे गए छापों में वहां जो कंप्यूटर मिले हैं, उनमें छेड़छाड़ की गई थी। पता लगा है कि सारे अधिकारी लैपटॉप का ही इस्तेमाल करते थे, लेकिन कांडा का लैपटॉप गायब है। मामले की जांच कर रहे एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कांडा को पकडऩे और गीतिका शर्मा (23) के सूइसाइड से जुड़े सबूतों को जब्त करने के लिए अभी तक गुडग़ांव, गोवा, सिरसा, राजस्थान, यूपी और चंडीगढ़ आदि में रेड की जा चुकी है। 70 से अधिक लोगों से पूछताछ करने के अलावा 30 लोगों को दिल्ली लाकर भी पूछताछ हो चुकी है।

इनसे जो जानकारियां मिली हैं, उन्हें सार्वजनिक नहीं किया जा सकता। अधिकारी ने बताया कि कांडा के लैपटॉप में कई अहम जानकारियां होंगी। जितनी देर कांडा को पकडऩे में हो रही है, उतना ही डर उसके लैपटॉप से सबूत मिटने का भी बढ़ रहा है। चूंकि, कांडा के लैपटॉप में गीतिका से संबंधित जो भी जानकारी होगी. वह कोर्ट में उसके खिलाफ पुख्ता सबूत के तौर पर पेश करने में काफी अहम साबित होगी। इस वजह से पुलिस कांडा के लैपटॉप को हासिल करने पर पूरा जोर लगा रही है।

Related Posts: