नयी दिल्ली,

केंद्रीय मंत्री के.जे. एल्फोंस ने एयर इंडिया की इकोनॉमी श्रेणी में सिर्फ शाकाहार परोसे जाने पर सवाल उठाते हुये कहा है कि इससे ग्राहक सरकारी विमान सेवा कंपनी से किनारा कर सकते हैं।

पर्यटन मंत्री श्री एलफोंस ने गुरुवार देर रात यहाँ भारतीय हवाई यात्री संघ (एपीएआई) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा “एयर इंडिया, आपके द्वारा जंक-शाकाहार परोसे जाने का तर्क मेरी समझ से परे है।आप जितनी बचत करते हैं उससे ज्यादा तो आप ग्राहक खो देंगे।” उन्होंने कहा कि वह हमेशा इकोनॉमी श्रेणी में ही सफर करते हैं ताकि आम यात्रियों के अनुभवों को ज्यादा करीब से जान सकें।

करीब 50 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज में डूबी एयर इंडिया ने लागत में कटौती के उद्देश्य से पिछले साल यह तय किया था कि इकोनॉमी श्रेणी में सिर्फ शाकाहार परोसा जायेगा।

केंद्रीय मंत्री ने एयरलाइंसों को सेवा गुणवत्ता सुधारने की नसीहत दी।अन्य विमान सेवा कंपनियों की भी खिंचाई करते हुये उन्होंने कहा कि स्पाइसजेट को छोड़कर किसी अन्य एयरलाइंस में माँगने पर उन्हें बिना चीनी वाली कॉफी भी नहीं मिल पाती।उन्होंने कहा “मैं एक साधारण सी बिना चीनी की कॉफी माँग रहा हूँ।आप वह भी नहीं दे सकते?”

उन्होंने बताया कि एक अन्य मौके पर अपनी बूढ़ी माँ के लिए उन्होंने तकिये की माँग की जो फ्लाइट क्रू नहीं दे पाये।

श्री एल्फोंस ने कहा कि मोदी सरकार ने विमानन क्षेत्र में चमत्कार कर दिया है।हवाई यात्रियों की संख्या 20 प्रतिशत सालाना की दर से बढ़ रही है।उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में विमानन क्षेत्र का योगदान काफी ज्यादा है, विशेषकर पर्यटन में।हम सही दिशा में बढ़ रहे हैं, लेकिन अब भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है।