ऑनलाइन करता था लड़कियां सप्लाई

इंदौर,

देश-विदेश में ऑनलाइन हाईप्रोफाईल मॉडल्स और कॉल गर्ल उपलब्ध करने वाली एस्कॉर्ट सर्विस की वेबसाइट चलाने वाले फरार सरगना को राज्य सायबर सेल ने चंडीगढ़ के पास से गिरफ्तार किया है। वह अपने साथी की गिरफ्तारी के बाद लंबे समय तक पंजाब व हरियाणा में छिपता रहा।

राज्य सयबर सेल के द्वारा पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम राहुल उर्फ विकास बताया है। जो हरियाणा के पंचकूला के रहने रहन वाला है साइबर सेल ने उसे चंडीगढ़ से चार किलोमीटर दूर जीरकपुर से गिरफ्तार किया है। वह देश-विदेशों में कॉल गर्ल उपलब्ध कराता था।

राहुल ने वेबसाइट के मेंटनेंस की जिम्मेदारी हर्षल झा को दे रखी थी, जिसे पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. राहुल ने पूछताछ में कबूल किया है कि हर्षल ऑनलाइन सेक्स पोर्टल भी चलाता था, जिसमें उसके पास विदेशी लड़कियों का डेटा था इसमें 200 लड़कियां अनुबंधित थी।

पोर्टल में डेबिट व क्रेडिट कार्ड से भुगतान के बाद लाइव सेक्स शो की सुविधा मिलती थी। हर्षल को इस नेटवर्क से अच्छी आय होने लगी थी। पेमेंट गेटवे पे पाल ने ज्यादा विदेशी मुद्रा ट्रांसफर होने से इसे ब्लॉक कर ब्लेक लिस्ट कर दिया था।

राहुल ने बताया कि उसने हर्षल को ऑनलाइन सेक्स पोर्टल बनाने के लिए एक लाख रुपए दिए थे। राहुल ने इंदौर में चलने वाली अन्य एस्कॉर्ट सर्विस की वेबसाइट के बारे में भी जानकारी दी। पुलिस उनकी जांच में भी जुट गई है।

राहुल जब 12वीं कक्षा में था तब से पब में जाना शुरू किया और यही से उसने इस धंधे में आने की शुरुआत की. यही राहुल कुछ कॉल गर्ल के संपर्क में आया। और उन्हें सप्लाई करना शुरू कर दिया।

उसके बाद इंटरनेट पर आया और बड़े स्तर इस धंधे को बढ़ाया। तभी से वेबसाइट पर ऑनलाइन सर्विस की योजना बनाने लगा और इसे चलाना शुरू कर दिया। जब साथी हर्षल पकड़ाया तो राहुल डर गया और दो प्रदेशों में छिपता रहा।

ट्रेसिंग के डर से 50-50 हजार रुपए के दो मोबाइल पंचकुला की नहर में फेंक दिए थे। बाद में बगैर ईएमआई नंबर के फोन चलाने लगा। हर्षल ने कबूला था कि वह पहले सागर उर्फ सेंडो जैन की सुबीना डॉट कॉम को मेंटेन करता था। तब राहुल ने उसे अपनी वेबसाइट चलाने के लिए 40 हजार रुपए प्रतिमाह पर रखा था.