नयी दिल्ली,

सरकार ने गृह मंत्रालय की सरंचना और कार्यप्रणाली की समीक्षा करने के लिए पूर्व गृह सचिव मधुकर गुप्ता की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति गठित की है।

सरकार गृह मंत्रालय को आंतरिक सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने के लिए सुदृढ़ करना चाहती है और इसे ध्यान में रखकर ही यह समिति गठित की गयी है। वर्ष 2009 में तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम ने आंतरिक सुरक्षा के बढ़ते खतरों से बेहतर ढंग से निपटने के लिए मंत्रालय के विभाजन का सुझाव दिया था।

समिति मंत्रालय की प्रणाली, क्षमता और प्रक्रियाओं के मूल्यांकन के साथ-साथ विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के बीच बेहतर तालमेल के बारे में भी सुझाव देगी। समिति को आंतरिक मंत्रालय के संगठनात्मक डिजाइन की जांच और मूल्यांकन करने के लिए कहा गया है।

सशस्त्र सीमा बल के पूर्व प्रमुख अर्चना रामसुंदरम तथा इंस्टीच्यूट ऑफ कॉन्फ्लिक्ट मैनेजमेंट के निदेशक अजय साहनी को समिति का सदस्य बनाया गया है।

Related Posts: