गैस पीडि़त बस्तियों के पानी की जांच कराएंगे : न्यायाधीश भदौरिया

नवभारत न्यूज भोपाल,

सुप्रीम कोर्ट की निगरानी कमेटी के सदस्य राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव, न्यायाधीश बीएस भदौरिया ने बुधवार को भोपाल की गैस पीडि़त बस्तियों का भ्रमण किया. उनके साथ जिला विधिक प्राधिकरण के सचिवन्यायाधीश अमजद अली सहित नगर निगम के अपर आयुक्त एमपी सिंह थे.न्यायाधीश भदौरिया ने गैस प्रभावित बस्तियों के निवासियों से उनकी समस्याएं सुनीं.

रहवासियों ने बताई समस्याएं
टीम के सदस्यों ने जब नवाब कॉलोनी का भ्रमण किया तो रहवासियों ने उनको बताया कि नालियों से बहता गंदे पानी के बीच से गुजरती पीने की पाइप लाइन, कहीं पाइप टूटे, तो कहीं लाइन से पानी का रिसाव हो रहा है,नालियों का गंदा पानी पीने की पाइप लाइन में मिल रहा है.

कचरे के ढेर गुजरती पाइप लाइनें

रहवासी बोले हम कई सालों से ऐसा ही पानी पी रहे हैं, आए दिन गंदा और मटमैला पानी पीना पड़ता है, बीमार न हो इसलिए पानी को उबाल लेते हैं. समाजसेवी एडवोकट नवाब खान ने न्यायाधीश भदौरिया को बताया कि वे इसकी शिकायत कई बार कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई.

इसके बाद जब टीम के सदस्यों ने जब कॉलोनी का जायजा लिया तो अमूमन यही हालात हर जगह नजर आए. कॉलोनी में पीने के पानी की स्थिति देख समिति के सदस्यों ने भी नगर निगम और पीएचई के सदस्यों से भी इसका कारण पूछा.

कॉलोनी के रहवासियों ने कमेटी को बताया कि करीब चार साल पहले नगर निगम ने कॉलोनी में नल कनेक्शन दिए थे. लेकिन पानी की लाइने नालियों में डाल दीं. ये लाइनें सड़ चुकी हैं जिससे सीवेज का पानी आ रहा है. इस पानी को पीकर हमारे घर वाले बीमार हो रहे हैं. कई बार शिकायत कर चुके हैं लेकिन नगर निगम कुछ नहीं करता.

वहीं गैस पीडि़त संगठन की रचना ढींगरा ने कमेटी को बताया कि उन्होंने गैस पीडि़त कॉलोनियों में पीने के पानी की समस्या को लेकर 1995 में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी. सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 14 कॉलोनियों में पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे.

हालांकि बाद में इफेक्टेड कॉलोनियों की तादाद 14 से 22 हो गई. उन्होने बताया कि आज 20 नई कॉलोनियों में भी जहरीला पानी आ रहा है लेकिन यहां लोगों को साफ पानी नहीं मिलता. नगर निगम और अन्य एजेंसियों का पूरा ध्यान तो सिर्फ यूनियन कार्बाइड के कचरे को हटाने पर ही है.

घरों में आ रहा गंदा पानी

नवाब कॉलोनी में एडवोकट नवाब खान ने निरीक्षण के दौरान सदस्य सचिव अमजद अली ने बताया कि नवाब कॉलोनी में पानी की लाइने तो हैं लेकिन इन्हें नालियों से गुजारा गया है. कई जगह यह लाइन टूट गई तो कई जगह लोगों ने अतिक्रमण कर लिया. इसके चलते घरों में गंदा पानी जा रहा है.

हमने इस पानी के सैंपल को लखनऊ आईआईसीआर लैब में टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं. इससे पहले राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव बी एस भदौरिया ने जिला अदालत में गैस पीडि़तों की पीने के पानी की समस्याओं को लेकर नगर निगम के अधिकारी और भूजल वैज्ञानिकों एवं गैस पीडि़त संगठनों की बैठक ली.

बैठक में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अमजद अली , जिला विधिक सहायता अधिकारी बी एम सिंह जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मीडिया प्रभारी खालिद हफीज, पैरालीगल सदस्य दिनेश शर्मा, सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

Related Posts: