मृतका की मां को सहायता राशि का चेक प्रदान करते एसडीएम राजीव नंदन श्रीवास्तव (इनसेट में छात्रा स्वाती मेहर)

रमसा के छात्रावास में हुआ हादसा

बैरसिया,

शासकीय सरोजनी नायडू कन्या शाला अंतर्गत आने वाले मेला ग्राउंड में बनी राष्ट्रीय महात्मा गांधी शिक्षा मिशन ; रमसा द्ध के 150 सीटर आवासीय छात्रावास में शुक्रवार सुबह करीब आठ बजे छात्रावास के कोचिंग रूम में ग्राम बडोडी की कक्षा 10वीं में अध्यनरत 16 वर्षीय स्वाती पुत्री स्व. रामस्वरूप मेहर नामक छात्रा ने फांसी लगा खुदखुशी कर ली.

बताया जा रहा है कि छात्रा स्वाती मेहर के पिता का पहले ही निधन हो चुका था. छात्रा की परवरिश उसके चाचा भीकम सिह मेहर एवं माँ करते थे. जो गांव बडोडी में रहते हैं. फांसी की सूचना मिलते ही छात्रा के परिजन व पुलिस एवं शिक्षा विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे. और पुलिस की एसएएफएल टीम ने छात्रा को दुपट्टे से लगी फांसी से उतार कर पीएम के लिए भोपाल भेजा गया था.

पुलिस का कहना है कि कोई सुसाइड नोट मौके से नहीं मिला है. पीएम की रिपोर्ट आने पर मौत के कारणों का पता चलेगा. जबकि खुदखुशी करने वाली स्वाती की माँ दो दिन पहले ही छात्रा से हॉस्टल में मिल कर गई थी. उस समय तक स्वाति वहां खुश थी. जांच में छात्रावास में कुछ आपत्तिजनक सामान मिलने की खबर है. छात्रा के चाचा भीकम सिंह मेहर ने स्कूल एवं छात्रावास प्रबंधन पर गम्भीर लापरवाही का आरोप लगाया है.

उधर प्रबंधन एवं छात्रावास की अन्य छात्राओं से पूछताछ में पता चला है कि छात्रावास की अधीक्षिका अर्चना कुशवाह छात्रावास में रात में नहीं रहती थीं. जबकि नियम अनुसार अधीक्षिका का बालिकाओं के आवासीय छात्रावास में रात रुकने की शर्त पर ही नियुक्ति दी जाती है.

आरोप है कि अधीक्षिका एवं अधीनस्थ कर्मचारी कन्या शाला के प्राचार्य बिनोद कुमार राजौरिया की सांठगांठ के चलते वार्डन छात्रावास में रात नहीं रुकती थी. यह बात अनेक बार शाला प्रवंधन समिति की बैठक में भी उठाई जा चुकी थी. फिर भी वार्डन अर्चना कुशवाह रात में घर चली जाती थी. और घटना वाली रात भी उनके अपने घर पर ही होने की बात सामने आई है.

इस कारण परिजनों ने स्कूल प्राचार्य एवं वार्डन को तत्काल वहां से हटाते हुए छात्रा की मौत के कारणों की जांच कराने की मांग की हैं. छात्रा की माँ को एसडीएम राजीव नन्दन श्रीवास्तव ने तत्काल सहायता के तौर पर पांच हजार रुपए का चेक दे राहत पहुंचाने का प्रयास किया है.

घटना स्थल पहुंचा स्कूल शिक्षा विभाग का अमला

रमसा के आवासीय छात्रावास में कक्षा 10 वीं की 16 वर्षीय छात्रा स्वाति मेहर की खुदखुशी की घटना की जांच में सुबह से ही लोक शिक्षण संचानालय की अपर संचालक कामना आचार्य एवं जिला शिक्षा अधिकारी धर्मेंद्र शर्मा, रमसा के ऐपीसी गुप्ता, बीईओ बीआरसी आदि मामले की जांच में दिन भर जुटे रहे.

Related Posts: