नयी दिल्ली,

केंद्रीय सामजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने आज कहा कि आपातकाल के बाद हुआ 1977 का चुनाव परिणाम देश के लोकतंत्र में यू-टर्न साबित हुआ और उस दौरान संघर्ष करने वाले सभी ‘लोकतंत्र सेनानियों ’ को वित्तीय मदद मिलनी चाहिये।

श्री गहलोत ने यहाँ लोकतंत्र सेनानी संघ द्वारा आयोजित तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुये कहा “माना कि हम देशभक्त हैं, हमने देशभक्ति का पाठ पढ़ा है।

उन्होंने कहा कि कोई विधेयक लाकर ऐसा कानून बनाया जाना चाहिये जिसके तहत स्वतंत्रता सेनानियों की तरह आपात के खिलाफ संघर्ष करने वाले लोगों को भी नियमित वित्तीय मदद मिल सके। उन्होंने कि वह इसके लिए प्रयास कर रहे हैं।

श्री गहलोत ने कहा “आजादी के बाद धीरे-धीरे देश सर्वोपरि की जगह सत्ता सर्वोपरि की प्रवृति बढ़ती गयी। भ्रष्ट और बेईमान प्रवृत्ति के खिलाफ देश भर में संघर्ष होने लगा। सत्ता जाती देख तत्कालीन सत्ताधारी पार्टी ने आपातकाल लगा दिया।”

उन्होंने कहा कि 1977 का चुनाव परिणाम देश के लोकतंत्र में ‘यू-टर्न’ था। यदि उस समय कांग्रेस फिर जीत गयी होती तो देश में आज प्रजातंत्र नहीं होता। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र सेनानी सम्मान के अधिकारी हैं।

गौरतलब है कि जे पी आन्दोलन के लोकतंत्र सेनानियों को बिहार ,उत्तर प्रदेश,मध्यप्रदेश और झारखंड में पेंशन मिल रही है लेकिन उसकी राशि पांच हजार से 15हजार रूपये के बीच है और यह सभी राज्यों में एक समान नहीं है। इन सेनानियों ने कल दिल्ली में रैली निकाली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एक समान पेंशन राशि देने की मांग का ज्ञापन दिया ।