• 160 किलोमीटर गलत रूट पर चली गई स्पेशल ट्रेन
  • दिल्ली से 2,500 किसानों को लेकर चली थी स्पेशल ट्रेन
  • ट्रेन को मथुरा से होकर कोटा, सूरत, मुंबई, पुणे के रास्ते कोल्हापुर जाना था
  • गाड़ी मथुरा से आगरा, ग्वालियर होते हुए मुरैना के बानमोर स्टेशन पहुंची
  • मुरैना से वापस आगरा रवाना हुई ट्रेन

नई दिल्ली/बानमोर,

किसानों को लेकर जा रही स्पेशल ट्रेन के साथ रेलवे की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है.
दिल्ली से 2,500 किसानों को लेकर महाराष्ट्र के कोल्हापुर के लिए रवाना हुई स्पेशल ट्रेन 160 किलोमीटर गलत रूट पर चलकर मध्य प्रदेश पहुंच गई. यह बड़ी लापरवाही हादसे का भी सबब बन सकती थी.

ये किसान दिल्ली से स्पेशल ट्रेन पर सवार होकर महाराष्ट्र के लिए निकले थे, लेकिन इस ट्रेन ने गलत रूट ले लिया. स्पेशल ट्रेन को उत्तर प्रदेश के मथुरा से होकर कोटा, सूरत, मुंबई, पुणे के रास्ते कोल्हापुर जाना था.

लेकिन, गलत सिग्नल मिलने के चलते यह गाड़ी मथुरा से आगरा, ग्वालियर होते हुए मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के बानमोर स्टेशन तक जा पहुंची. बानमोर पहुंचने के बाद किसानों को आभास हुआ कि वह गलत रूट पर आ गए हैं.

इसके बाद उन्होंने ट्रेन के ड्राइवर और स्टेशन मास्टर को इसके बारे में बताया. ट्रेन में सवार यात्री सावरकर मदनाइके ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा, हमारा रूट मथुरा से कोटा, सूरत, मुंबई, पुणे का था.

लेकिन, मथुरा के स्टेशन मास्टर ने मथुरा से आगरा के रूट पर ट्रेन को भेज दिया और यह 160 किलोमीटर सफर तय करके बानमोर स्टेशन तक पहुंच गई. यहां पर भी यात्रियों ने ही ट्रेन के ड्राइवर को बताया कि हम गलत रूट पर आ गए हैं. पूछने पर ड्राइवर ने बताया कि हमें इधर का सिग्नल मिला तो हम इधर ट्रेन लेकर आ गए.

जानकारी मिलने के बाद रेलवे ने बानमोर से ट्रेन को ग्वालियर के रास्ते मथुरा के लिए रवाना कर दिया है. मथुरा से यह ट्रेन वापस कोटा, सूरत, मुंबई होते हुए कोल्हापुर जाएगी.

फिलहाल इस ट्रेन के गुरुवार सुबह 6 बजे तक कोल्हापुर पहुंचने की संभावना है. ट्रेन में सवार एक अन्य यात्री महावीर पाटिल ने कहा कि अच्छा हुआ कि कोई हादसा नहीं हुआ, लेकिन ऐसा कुछ हो जाता तो जिम्मेदारी किसकी होती.

Related Posts: