डरबन,

टेस्ट सीरीज़ में हुई चयन गड़बड़ी, बल्लेबाज़ों के लचर प्रदर्शन और अति-आक्रामकता जैसी गलतियों को सुधारते हुये विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम गुरूवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले वनडे में जीत के साथ आगाज़ करने उतरेगी।

भारतीय टीम को दक्षिण अफ्रीका से तीन टेस्टों की सीरीज़ में 1-2 से हार मिली थी लेकिन आखिरी टेस्ट में जिस तरह भारतीय टीम ने मैच हाथ से निकल जाने के बावजूद 63 रन से जीत अपने नाम कर पासा पलटा उसने उसका मनोबल काफी बढ़ाया है और वह निश्चित ही इस लय को वनडे सीरीज में भी बरकरार रखेगी।

मेहमान टीम का वैसे डरबन के किंग्समीड मैदान पर वनडे में रिकार्ड अच्छा न रहा हो लेकिन टीम ने इस प्रारूप में पिछले लगभग दो साल में शानदार प्रदर्शन किया है अौर यदि वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छह वनडे मैचों की सीरीज़ जीतती है तो यह उसकी लगातार नौंवी सीरीज़ जीत होगी और इसी के साथ वह रैंकिंग में भी टेस्ट के बाद वनडे में दुनिया की नंबर वन टीम बन जाएगी।

मेहमान टीम के लिये हालांकि इस बार बल्लेबाज़ी में सबसे अधिक सुधार करने की जरूरत होगी।टेस्ट सीरीज़ में उसकी विराट कोहली पर निर्भरता काफी दिखाई दी थी।

हालांकि मध्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी की मौजूदगी इस बार बड़ा फर्क पैदा कर सकती है, वहीं ओपनिंग में शिखर धवन और रोहित शर्मा अहम होंगे।रोहित ने गत वर्ष श्रीलंका के खिलाफ वनडे में तीसरा दोहरा शतक लगाया था और उम्मीद रहेगी कि इस लय को वह अफ्रीकी ज़मीन पर दोहरा सकें।

Related Posts: