इलाहाबाद, 12 सितंबर. कन्नौज से सांसद और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के निर्वाचन को हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर चुनौती दी गई है. इस पर हाईकोर्ट ने डिंपल यादव से दो सप्ताह में जवाब मांगा है. डीएम कन्नौज को भी नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया गया है.

याचिका अधिवक्ता प्रभात पांडेय ने दाखिल की है. इस पर न्यायमूर्ति डीपी सिंह सुनवाई कर रहे हैं. आरोप है कि कन्नौज उपचुनाव के दौरान प्रभात पांडेय को नामांकन करने से रोकने के लिए उसका अपहरण करा लिया गया. याचिका के मुताबिक प्रभात पांडेय अनजान वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल नाम की नई पार्टी से कन्नौज संसदीय सीट से नामांकन करना चाहते थे. मगर जब वह नामांकन के लिए छह जून 2012 को दिन में करीब ढाई बजे जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे तो समाजवादी पार्टी के लोगों ने उनका अपहरण कर लिया. इससे पूर्व पार्टी के दो अन्य नेताओं सादेश यादव और रामसिंह लोधी का उसी दिन सुबह दस बजे के करीब अपहरण कर लिया गया था. इसकी वजह से वह नामांकन नहीं कर सके. इस घटना की शिकायत जिलाधिकारी से की गई पर उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की. याचिका में कन्नौज का उपचुनाव रद करने की मांग की गई है. हाईकोर्ट ने सांसद डिंपल यादव और कन्नौज की जिलाधिकारी सिल्वा कुमारी को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया है. याचिका पर अगली सुनवाई पांच नवंबर को होगी.

Related Posts: