राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कल एक पाक आतंकवादी को कश्मीर के अस्पताल से छुडा लेने की घटना को गंभीर मुद्दा बताते हुए इसके लिए राज्य सरकार को दोषी ठहराया और दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कारवाई करने की मांग की है।

श्री आज़ाद ने आज नियम २६७ के तहत इस मुद्दे पर कार्यस्थगन का नोटिस दिया था और इस पर विस्तृत चर्चा की मांग की लेकिन सभापति एम् वेंकैया नायडू ने इसे मंज़ूर नहीं किया और उन्हें शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाने की अनुमति दी।

कांग्रेस नेता ने शून्यकाल में कहा कि कश्मीर के मुद्दे परमैं दो तीन मिनट में नहीं बोल सकता लेकिन जिस तरह कश्मीर के हालत ख़राब हुए हैं उसे देखते हुए सरकार से निवेदन है कि इस पर इस सत्र या अगले सत्र में चर्चा हो।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों से हालत और खराब हुए पर सर कार कहती रही कि हालत ठीक हैं लेकिन कल कश्मीर के हरिसिंह अस्पताल से नवेद जाट नामक पाक आतंकवादी को छुडा लिया गया यह दुखद घटना है और यह केवल राज्य या सरकार के लिए ही नहीं बल्कि देश के लिए भी अच्छा नहीं है।

उन्होंने कहा कि उस आतंकवादी को आर्मी अस्पताल में ले जाना चाहिए था लेकिन उसे एक ऐसे अस्पताल में चेक उप के लिए ले जाया गया जहाँ ओ पी डी में हजारों लोगों की भीड़ रहती है और जो सबसे पुराना अस्पताल है।

उस अस्पताल में अर्ध सैनिक बालों को तैनात किया जाना चाहिए था लेकिन यह राज्य सरकार की कमी है। उन्होंने कहा कि सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि भविष्य में ऐसी घटना दोबारा न हो।

Related Posts: