• पहले नागपुर में डॉक्टरों ने मृत घोषित किया
  • फिर छिंदवाड़ा में डॉक्टरों ने मृत घोषित किया
  • नब्ज चलने पर चिकित्सकों ने नागपुर रैफर किया

छिंदवाड़ा ,

छिंदवाड़ा जिला चिकित्सालय में आज सुबह जब एक मृत घोषित युवक के पोस्टमार्टम की तैयारी चल रही थी, तभी उसकी नब्ज चलने लगी. उसे इलाज के लिए नागपुर भेजा गया है.

अस्पताल सूत्रों के अनुसार स्थानीय शिक्षक कॉलोनी निवासी हिमांशु भारद्वाज (26) रविवार की शाम एक सडक़ दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गया था. उसे परिजन छिंदवाड़ा के अस्पताल से नागपुर के एक निजी अस्पताल ले गये थे.

वहां पर उपचार के दौरान चिकित्सकों ने उसका परीक्षण किया तो उसकी नब्ज चलना बंद हो गई थी.चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर छिंदवाड़ा भिजवा दिया.हिमांशु को आज सुबह 5: 30 बजे छिंदवाड़ा जिला चिकित्सालय में लाया गया था. उस समय भी ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने परीक्षण कर उसे मृत घोषित किया था.

पोस्टमार्टम के लिए हिमांशु के शरीर को शवगृह में रखवा दिया गया था. उसका शरीर वहां चार घंटे तक रहा. सुबह 9: 30 बजे पोस्टमार्टम के लिए सफाई कर्मचारी ने हिमांशु के शरीर से कपड़े उतारने शुरू किए, तो उसकी धडक़न चलने लगी.

यह देख सफाई कर्मचारी ने वहां उपस्थित डॉ निर्णय पाडे को सूचित किया. युवक को वहां से निकालकर तुरंत वार्ड में लाया गया, जहां से उसको इलाज के लिए पुन: नागपुर ले जाया गया है.जिला चिकित्सालय के डॉ सुभाष भगत ने बताया कि हिमांशु की नब्ज लौट आई है. ऐसा लाखों में किसी एक मरीज के साथ होता है, जिसकी नब्ज लौट आई हो.

Related Posts: