फरवरी में आयोजित परीक्षा में भी 15 उत्तर थे गलत

  • आंसरशीट जारी होते ही फिर उठे सवाल

नवभारत न्यूज भोपाल,

मप्र लोकसेवा आयोग में परीक्षा को लेकर कुछ न कुछ विवाद उत्पन्न होते ही जा रहे है। ऐसे ही एक मामला पीएससी परीक्षा की फाइनल आंसरशीट जारी करने को लेकर सामाने आया हैै. पीएससी परीक्षा की फाइनल आंसरशीट जारी होते ही फिर सवाल उठये जाने लगे है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार लोकसेवा आयोग ने मंगलवार को परीक्षा की आंसरशीट जारी की है. आंसरशीट में एक प्रश्न के दो उत्तर को लेकर सवाल खड़े हो गए.

परीक्षा के पर्चे मेेंं प्रश्न पूछा गया था कि भारतीय संविधान के किस अनुच्छेद के तहत राज्यपाल को विधानमंडल के ‘विश्रांति काल’ में अध्यादेश प्रख्यापित करने की शक्ति प्राप्त है? सेट सी में ये प्रश्न 95वें और सेट डी में ये प्रश्न 22वें नम्बर पर था, आयोग ने फाइनल आंसर शीट में सेट सी का उत्तर सी जिसमें अनुच्छेद 212 बताया गया वहीं सेट डी में उत्तर डी यानि अनुच्छेद 213 बताया गया.

अब एक ही प्रश्न के दो उत्तर कैसे हो सकते हैं जब इस मामले पर संघ लोक सेवा आयोग के परीक्षा नियंत्रक दिनेश जैन से चर्र्चा की गई तो उन्होंने जांच की बात कही हैं. इससे पूर्व 18 फरवरी को आयोजित परीक्षा के बाद जो आंसरसीट जारी की गई थी जिसमें करीब 15 सवालों के उत्तर गलत दिए गए थे. आपत्तियों के बाद पीएससी ने इन सवालों को हटाकर फाइनल आंसरशीट जारी की है.

Related Posts: