चुनाव का वर्ष सौगातों का वर्ष और साथ-साथ मांगों का भी वर्ष होता है. मध्यप्रदेश में इन दिनों इन दोनों की भरमार हो रही है. शिक्षक जो पिछले कई वर्षों से अपनी मांगों पर जूझते आ रहे थे इस वर्ष लगभग उनकी कई मांगें पूरी हो गई हैं और यह सिलसिला अभी भी जारी है.

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य शासन के रिटायर हो चुके कर्मचारियों के लिये उनकी पेंशन में 2.57 गुना वृद्धि की घोषणा की है.

इनकी समस्याओं के निदान के लिये पेन्शन बोर्ड भी बनाया जा रहा है. पेन्शन पाने वालों के लिए चिकित्सा सुविधा भी बढ़ायी जाने वाली है. मुख्यमंत्री ने इन लोगों से अनुरोध किया है कि वे अपने अनुभवों व योग्यता से शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं स्वच्छता अभियान, पर्यावरण संरक्षण, बेटी बचाओ आदि को सफल करने में योगदान दें.

हाल ही में पेन्शन में कई ऐसे घपले भी सामने आये हैं कि जिन लोगों की मृत्यु बरसों पहले हो चुकी है उनके परिवारजनों ने उनकी सूचना भी नहीं दी और स्वयं गलत ढंग से उनकी पेन्शन निकालते रहे. उसमें बैंकों के स्टाफ भी शामिल होते हैं.