• राजनैतिक मुद्दों पर 6 माह बाद खामोशी तोड़ी दिग्गी ने
  • नवभारत से खास मुलाकात में कहा-सभी का हो कल्याण

गोविद बड़ोने
नरसिंहपुर ,

एक दौर में अपने चुटीले बयानों और राजनैतिक कटाक्षों के लिए देश में चर्चित रहने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह पिछले 6 माह से नर्मदा परिक्रमा पर है.

इस कारण उन्होंने राजनैतिक मुद्दों पर मौन साध रखा था. आज सोमवार को उनकी नर्मदा परिक्रमा का अंतिम दिन है. इसके समापन की पूर्व संध्या पर दिग्विजय सिंह ने ‘नवभारत’ से खास मुलाकात में कहा कि उनकी फिलहाल अगली यात्रा राजनैतिक यात्रा होगी और उनका अगला कदम मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने का होगा. वे इसके लिए हर संभव कोशिश करेंगे. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि विभिन्न अवसरों पर राजनैतिक मुद्दों को लेकर अब वे अपनी खामौशी तोड़ेंगे.

नर्मदा परिक्रमा के संबंध में उनका कहना था कि वे इससे पूर्णत: संतुष्ट है. माँ नर्मदा की कृपा से उनकी यात्रा निर्विघ्र पूर्ण होने को है. चर्चा के दौरान श्री सिंह ने कहा कि माँ नर्मदा हमारी जीवनदायनी है.

नर्मदा को बांधने के प्रयासों ने उसके अस्तित्व पर संकट खड़ा कर दिया है. समुद्र का खारा पानी 80 किमी तक नर्मदा में प्रवेश कर गया है. वे अपनी यात्रा के अनुभवों को जनमानस के बीच तो साझा करेंगे ही राज्य और केन्द्र सरकार से नर्मदा के संवरक्षण के लिए पुरजोर आग्रह करेंगे.

मान्यता है कि माँ नर्मदा के दर्शन मात्र से हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है. 3100 किमी की परिक्रमा पूरी होने के बाद आप कौन सी मनोकामना पूरी होने की अपेक्षा रखते है ?

इस प्रश्न का मुस्कुराकर उत्तर देते हुए उन्होंने कहा कि उनकी मनोकामना है कि सभी का कल्याण हो. नर्मदा यात्रा के दौरान उन्हें कई बार चमत्कारिक अनुभव हुए. गुजरात में तट परिर्वतन के बाद खम्बाद की खाड़ी में तूफान आया और पांच दिन तक उसका प्रभावी असर रहा.

जबकि हम सभी यात्री पूर्व में सकुशल दूसरे छोर पर आ गये थे. सैकड़ों नर्मदा यात्रियों के साथ श्री दिग्विजय सिंह की परिक्रमा नरसिंहपुर से करीब 12 किमी दूर बरमान घाट पर आज सोमवार को समाप्त हो रही है.