इस पूरे माह की जा सकती है शिकायत

नवभारत न्यूज भोपाल,

कक्षा 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में सम्मिलित होने वाले छात्रों को माध्यमिक शिक्षा मंडल ने प्रवेश पत्र जारी कर दिये हैं. छात्र-छात्रायें अपने स्कूलों से प्रवेश पत्र प्राप्त कर सकते हैं. इस बार माशिमं ने प्रवेश पत्र में संशोधन के लिये स्कूल प्राचार्य को जिम्मेदारी दे दी है.

माशिमं के अधिकारियों का कहना है कि हर वर्ष मार्कशीट में छात्र-छात्राओं के नाम में त्रुटियां पाई जाती थीं. मार्कशीट में सुधार के लिये प्रदेश के दूरदराज के छात्रों को भोपाल स्थित माशिमं कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ते हैं.

वर्षों तक उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता था. इसीलिये यदि 10वीं या 12वीं के छात्रों को प्रवेश पत्र में कोई खामी दिखती है तो वह तुरंत अपने प्राचार्य को लिखित में आवेदन सौंप सकते हैं, जिससे सुधार किया जा सके. प्राचार्य जिलों की समन्वय शाखा को संशोधित सूची और प्रवेश पत्र की मूल प्रति जमा करायेंगे.

जहां से बोर्ड ऑफिस में संशोधन के बाद नये प्रवेश पत्र जारी होंगे, इस पूरी प्रक्रिया के लिये छात्रों को 1 से 28 फरवरी तक पूरा एक महीना प्रशासन ने दिया है.

अकाउंटेंट करते थे संशोधन

पिछले वर्ष तक बोर्ड की परीक्षा देने वाले छात्रों के रोल नंबर में यदि गलती होती थी तो वह स्कूलों में फीस भरने वाले अकाउंटेंट से संपर्क करते थे.

क्योंकि अकाउंटेंट ही स्कूलों में परीक्षार्थियों की सूची तैयार करते थे. इसीलिये बच्चे उन्हीं से संपर्क करते थे पर अधिकतर स्कूलों में बच्चों के प्रवेश पत्र में संशोधन नहीं हो पाता था जिस कारण उनकी अंकसूची में भी वह गलती दर्ज आती थी. जिसको सही कराने छात्र माशिमं के चक्कर लगाता था.

माशिमं के आदेश का हम पालन करेंगे. यदि किसी 10वीं या 12वीं के बच्चे के रोल नंबर में नाम गलत लिखा है तो वह प्राचार्य होने के नाते मुझे शिकायत दर्ज करायेंगे और मैं आगे की कार्यवाही के लिये रोल नंबर की मूल प्रति आवेदन के साथ हमें भेजनी होगी.
-रेखा नायक, प्राचार्य डीएव्ही स्कूल

Related Posts: