मीडिया महोत्सव के पूर्णाहुति सत्र को राज्यपाल ने किया संबोधित

  • मुंबई हमले की रिपोर्टिंग से सबक ले मीडिया

भोपाल,

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने मीडिया महोत्सव-2018 को संबोधित करते हुए कहा कि मीडिया द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा को अपना केन्द्रीय विषय बनाना न सिर्फ प्रासंगिक है बल्कि सम-सामयिक भी है.

भारत की सुरक्षा की जितनी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन और सुरक्षा बलों की है उससे कम जिम्मेदारी पत्रकारों की नहीं है क्योंकि पत्रकार ही वह माध्यम होता है जो जनता को सूचनाएं प्रेषित करता है. राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों की भी रिर्पोटिंग पर कोई भी कोताही कितनी भारी पड़ सकती है इसका खामियाजा 2008 में मुंबई हमले के समय देख चुके हैं. इस घटना से हमें सबक लेना चाहिए और एक रूपरेखा बनाकर उसका पालन करना चाहिए.

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने कहा कि ने कहा कि वर्तमान समय में सूचना और सूचना तकनीक का महत्व सर्वाधिक है. सूचना और संचार के क्षेत्र में नित्य नई खोजें हो रही हैं. यह एक प्रकार से संचार-क्रांति का दौर कहा जा सकता है. उन्होंने कहा कि संचार माध्यमों और संचारकों का उद्देश्य ही ज्ञानयुक्त, शिक्षित, जागरूक और संवेदनशील समाज का निर्माण है.

यह तभी संभव है जब ये गुण माध्यमों और संचारकों में भी विद्यमान हों. मीडिया चौपाल का उद्देश्य भी है कि समाज की जरूरतों के लिहाज से विकास, विज्ञान, पर्यावरण, संस्कृति और गैर राजनीतिक आदि संदेशों को भी वाजिब स्थान और समय मिले. मीडिया के अंदरूनी प्रतिस्पर्धा से भी कभी-कभी कुछ समाचारों को ज्यादा असरकारक ढंग से दिखाया जाता है, जिससे विवादास्पद स्थिति निर्मित होने का डर रहता है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कहा कि हमने भारत की 126 करोड़ जनता के सामने एक सपना रखा है कि हम एक नया भारत बनायेंगे. उन्होंने कहा कि भारत एकताएशांति और अहिंसा का पक्षधर है यहां गोली-बारी की जगह नहीं है. हमारे देश में विकास ही एक मात्र मुददा है. हमारा संविधान विश्व का सबसे लोकप्रिय संविधान है.

पश्चिमी नजरिये से न देखें भारत को : गोविंदाचार्य

वरिष्ठ विचारक एवं चिंतक केएन गोविन्दाचार्य ने कहा कि भारत कोई भूखण्ड नहीं है. भारत एक सभ्यता और अखंड राष्ट्र है. उन्होंने कहा कि भारत को पश्चिमी नजरिये से देखना बंद करना चाहिए, उसे भारत की ही नजर से देखना होगा. इसलिए मीडिया को सही बात बोलना चाहिए. आयोजन समिति के अध्यक्ष एसके राऊत ने आभार व्यक्त किया. कार्यक्रम के आयोजक अनिल सौमित्र ने स्वागत भाषण दिया.

ये भी रहे मौजूद

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक इंद्रेश कुमार, वरिष्ठ विचारक एवं चिंतक केएन गोविन्दाचार्य, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति जगदीश उपासने, मप्र भोज मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रविन्द्र कान्हेरे, निस्केयर सीएस आईआर के निदेशक डॉ. मनोज कुमार पटेरिया, और आयोजन समिति के अध्यक्ष एसके राउत उपस्थित थे.

Related Posts: