प्रैग्नेंसी में हर महिला को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है. बच्चे का स्वास्थ्य प्रैग्नेंसी में मां का खानपान पर निर्भर करता है. गर्भवस्था के दौरान पौष्टिक व संतुलित आहार न खाने पर बच्चे का विकास ठीक से नहीं हो पाता.

इसलिए इस दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है. एक शोध के अनुसार प्रैग्नेंसी में सॉफ्ट पनीर का सेवन शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है. ऐसे में अगर आप भी अपने बच्चें को स्वस्थ और सुरक्षित रखना चाहती है तो प्रैग्नेंसी में सॉफ्ट पनीर का सेवन न करें.

प्रैग्नेंसी में लिस्टेरिया की समस्या होना आम बात है लेकिन इससे संक्रमित महिलाओं के लिए सॉफ्ट पनीर का सेवन जहर के सामान होता है. इसके अलावा भी प्रैग्नेंट महिलाओं के लिए सॉफ्ट पनीर का सेवन हानिकारक होता है. गर्भवस्था में सॉफ्ट पनीर के सेवन से इंफेक्शन का खतरा रहता है. क्योंकि इसमें कोली नामक बैक्टीरिया होता है जो आपके गर्भवस्था में मां और शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है.

इसके अलावा माउल्ड, सॉफ्ट चीज में, फिटा, कैमेम्बर्ट पनीर और ब्लू वेइनेद चीज का सेवन भी प्रैग्नेंसी में मां और शिशु के लिए खतरनाक हो सकता है. इन्हें बनाने के लिए अनपाश्जचुराइड मिल्क का इस्तेमाल किया जाता, जोकि प्रैग्नेंसी के दौरान खतरनाक साबित हो सकता है. अगर आप पनीर खाना चाहती है तो घर का या पाश्चुरराइड दूध से बने हुए पनीर का सेवन करें.

Related Posts: