नागालैंड के छात्रों ने किया लेकव्यू का भ्रमण

नवभारत न्यूज.भोपाल,

भोपाल की सुंदरता देख को वो अचंभित हो गयी. लेक व्यू और वी आई पी रोड से बड़ेे तालाब को देख कर लगता ही नही है कि वो एक तालाब है ऐसे लगता है मानो कोई समुन्दर हो. यह कहना था नागालैंड की आईएम नारोना का.

मौका था एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत चलाए जा रहे यूथ एक्चेंज प्रोग्राम का. पिछले एक हफ्ते से प्रदेश का भ्रमण कर रहे नागालैण्ड के छात्रों कि टिम शुक्रवार को आई ई एच ई कॉलेज पहुंच कर विभिन्न विषयों पर चर्चा कि और प्रदेश के पर्यटन तथा संस्कृति के बारे में करीबी से जाना.

कार्यक्रम के अंतर्गत नागालैंड की 23 स्टूडेंट्स की टीम का आगमन हुआ. जहांं कॉलेज के स्टूडेंट्स ने एक प्रेजेंटेशन के द्वारा नागालैंड के डेलिगेट्स को मध्य प्रदेश के पर्यटन और संस्कृति के बारे में बताया. जिसमे मध्य प्रदेश के अलग अलग जगह के लोक गीत और नृत्य, प्रदेश की टूरिस्ट अट्रैक्शन प्लेसेस, मध्य प्रदेश के इतिहास को वीडियो के माध्यम से दिखाया. दोनों राज्यो के स्टूडेंट्स ने राजनिती पर भी बहुत देर तक चर्चा की जिसमे वोटिंग के महत्व, कॉन्स्टिट्यूशन के बारे में अवेरनेस, आदि विषयों पर बात की.

डायरेक्टर डॉ एम एल नाथ ने कहा कि हम इस कार्यक्रम को यहीं तक सीमित नही रखेंगे हम कोशिश करेंगे कि जब ये सभी वापिस नागालैंड चले जाएं तब भी हम इन सभी से कांटेक्ट बना कर रखे और कॉलेज के नोटिस बोर्ड पर हम नागामीस में कुछ सरल शब्दों की लिस्ट लगा देंगे जिस से की कॉलेज के बच्चे भी उनकी भाषा सीख सके.

विविधता में एकता हीं खूबी

नागालैंड की एक डेलिगेट ने नागामीस में गीत सुनाया. वहीं कॉलेज के बच्चो ने देशभक्ति गानें सारे जहां से अच्छा जैसे गीत सुनाए. साथ ही कार्यक्रम में उपस्थित नागालैण्ड के छात्रों ने भी वहां हिन्दी तथा अंग्रेजी गीतों से श्रोताओं का मनोरंजन किया. ऐसे में नागालैंड के स्टूडेंट्स ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रमो की वजह से ही जो कम्युनिकेशन गैप है वो कम हो पायेगा क्योंकि इससे हम सभी एक दूसरे को और अच्छे से जान पाएंगे अगर कोई मिस कन्सेप्शन है तो वो दूर होंगे जिस से पूरा भारत ही एक भारत हो पायेगा.