कोचिंग छात्रा से दुष्कर्म की घटना से राजधानी के लोगों में भारी आक्रोश

नवभारत न्यूज भोपाल,

महिला अपराधों को रोकने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्धारा दिए गए सख्त निर्देशों के बाद भी राजधानी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है. बैंक कोचिंग कर रही छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद लोगों में आक्रोश है.

चारों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद जहां पुलिस ने जुलूस निकाला, वहीं आईजी जयदीप प्रसाद, डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी व अन्य अधिकारियों ने मिलन रेस्टोरेंट व अप्सरा टॉकिज के पास उस कमरे का मुआयना किया जहां छात्रा के साथ दरिंदगी की गई थी. पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है.

पुलिस सूत्रों की मानें तो छात्रा का शैलेंद्र से पुराना परिचय था. इन दोनों की एक निजी संस्थान में पढ़ाई के दौरान पहचान हुई थी. शैलेंद्र जहां एमबीए कर रहा था, वहीं छात्रा बीएससी की पढ़ाई कर रही थी. पुलिस से जुड़े सूत्र बताते हैं कि दो माह पहले ही इनकी फें्रडशिप टूट गई थी.

आरोपी को शक था कि और से बात करती है

आरोपी शैलेंद्र ने पुलिस को पूछताछ में स्वीकारा है कि उसे ऐसा लग रहा था कि पीडि़ता किसी दूसरे युवक से फोन पर बातचीत करती है, इसी बात को लेकर वह उससे बदला लेना चाहता था. इसी को लेकर उसने योजना बनाकर छात्रा को बुलाया और फिर बर्बाद करने की नीयत से ज्यादती की.

अरुण यादव ने मांगा सीएम से इस्तीफा

मप्र कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने ट्वीट कर कहा कि राजधानी में भी बच्चियां सुरक्षित नहीं है. कुछ महीने पहले हुई घटना को अभी भोपाल भूल भी नहीं पाया था कि अब फिर दरिंदगी सामने आई. महिलाओं को सुरक्षा नहीं दे पा रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए.

दोस्त को बताई पूरी घटना

पुलिस के मुताबिक दुष्कर्म की घटना के बाद पीडि़ता काफी डर गई थी. वह चाहते हुए भी यह घटना किसी को नहीं बता पा रही थी. रविवार को उसने अपने एक फे्रंड को इस घटना की जानकारी दी, जिसके बाद वह उसके साथ थाने पहुंची और शिकायत की.

बताया जा रहा है कि आरोपी पीडि़ता को साढ़े ग्यारह बजे के बीच बाइक से अशोका गार्डन एक कमरे पर लेकर पहुंचे थे, इन्होंने छात्रा को करीब दोपहर 2 बजे तक कमरे में बंधक बनाकर रखा और ज्यादती की.

आरोपी ने लिया दोस्त का सहारा

एसपी साउथ राहुल लोढा ने इस बात को स्वीकारा है कि इस घटना में चारों आरोपी संलिप्त हैं. उन्होंने यह भी बताया कि शैलेंद्र ने अपने दोस्त सोनू से छात्रा को फोन कर बुलवाया था और कहा कि तुम लोगों केे बीच जो भी मामला है, उसे बैठकर बात कर लो और खत्म करो.

जब छात्रा एमपी नगर स्थित मिलन रेस्टोरेंट पहुंची तो वहां से ये एक दोस्त के कमरे पर अप्सरा टॉकिज अशोका गार्डन पर ले गए, जहां उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दे डाला. जब पुलिस आरोपियों का जुलूस निकाल रही थी तो महिलाओं व युवतियों ने चप्पल मारकर अपना आक्रोश निकाला.

Related Posts: