मैसुरू,

भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने स्पष्ट किया है कि पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ताओं पर हमले केसरिया विचारधारा के प्रसार को नहीं रोक सकते हैं।

श्री शाह कर्नाटक में आगामी 12 मई को होने वाले चुनावों को ध्यान में रखते हुए इस समय राज्य के दौरे पर हैं और आज दूसरे दिन उन्होंने पुराने मैसुरू क्षेत्र में संवाददाताओं से कहा“ मुझे पूरा भरोसा है कि कर्नाटक में भाजपा विजयी होगी।

मैनें पूरे राज्य का दौरा किया है और यही पाया है कि लोग भ्रष्टाचार से तंग आ गए हैं और अब विकास चाहते हैं। कांग्रेस और भ्रष्टाचार हमेशा एक दूसरे के साथ साथ रहते हैं और उनका रिश्ता पानी तथा मछली जैसा है और राज्य की मौजूदा सिद्धारमैया सरकार ने इसे काफी बढ़ावा दिया है।”

श्री शाह ने कहा ‘“राज्य की जनता ने श्री सिद्धरमैया को हटाने का मन बना लिया है क्योंकि कर्नाटक की सरकार भ्रष्टाचार की एटीम मशीन है। किसानों की आत्महत्याओं को आखिर कोई साजिश कैसे कह सकता है। मैनें गरीब परिवारों को 10 करोड़ रूपए देने और स्वास्थ्य बीमा के तौर पर प्रति परिवार पांच लाख रूपए देने का फैसला किया है।”

उन्होंने कहा कि हालांकि राज्य में आई टी सेक्टर काफी मजबूत है लेकिन इसे 24 घंटे बिजली नहीं मिल रही है और केन्द्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में देरी हो रही है। इसके चलते इस क्षेत्र के 3500 से किसानों ने आत्महत्या की है और जहां तक विकास की बात है तो सभी मानक नीचे जा रहे हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने 14वें वित्त आयोग में धनराशि आबंटन में दक्षिणी राज्यों के साथ हुए अन्याय के मसले पर राज्य के मुख्यमंत्री की अोर से वित्त आयोग के साथ किए गए संवाद पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि संघवाद में सेना सहित सभी बड़े सेक्टरों का खर्च केन्द्र सरकार को उठाना पड़ता है और यह राशि राज्यों से प्राप्त धनराशि से ही वहन की जाती है।