भारत के पास लय के साथ 3-0 की बढ़त का मौका

  • दक्षिण अफ्रीकी टीम जूझ रही चोटिल खिलाडिय़ों से
  • टीम इंडिया यहां परिस्थितियों के अनुकूल स्वयं को ढाल चुकी

केपटाउन,

दक्षिण अफ्रीका के चोटिल खिलाडिय़ों की बढ़ती फेहरिस्त के बीच भारतीय क्रिकेट टीम मेजबान टीम के खिलाफ कल खेले जाने वाले तीसरे वनडे में जीत की लय के साथ 3-0 की बढ़त बनाने के लिये उतरेगी.

शुरूआती तीन मैचों से एबी डीविलियर्स चोट के कारण बाहर हैं तो कप्तान फाफ डू प्लेसिस और ऑलराउंडर क्विंटन डी काक दोनों ही चोटों के कारण सीरीज से ही बाहर हो गये हैं. अहम खिलाडिय़ों की अनुपस्थिति में छह मैचों की सीरीज में दक्षिण अफ्रीकी टीम अब 0-2 से पिछड़ चुकी है.

वहीं भारतीय टीम अब काफी हद तक यहां की पिचों और परिस्थितियों के अनुकूल खुद को ढाल चुकी है और इसका फायदा भी उसे मिल रहा है. साथ ही उसके कलाई के स्पिनरों चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल की गेंदों को दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज समझ नहीं पा रहे हैं जो टीम इंडिया के लिये अब तक काफी फायदेमंद रहा है.

भारत ने सेंचुरियन में दूसरा मैच जिस तरह नौ विकेट से एकतरफा अंदाज में जीता था उसमें उसके दोनों स्पिनरों की अहम भूमिका रही थी जिन्होंने मिलकर विपक्षी टीम के आठ विकेट निकाले थे. इसके अलावा तेज गेंदबाजों जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार भी इन पिचों पर अहम रहे हैं और फिलहाल टीम का गेंदबाजी क्रम उसकी सबसे बड़ी ताकत है जिस बात को खुद कप्तान विराट कोहली मान रहे हैं.


भारतीय महिलाएं द. अफ्रीका से सीरीज कब्जाने उतरेंगी

  • भारतीय टीम ने पहले मैच में 88 रन से हराया था
  • विश्व कप के बाद भारतीय टीम की पहली अंतर्राष्ट्रीय सीरीज

किम्बर्ली,

एक ओर विराट कोहली की कप्तानी में पुरुष टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में बढ़त के लिये खेलेगी तो दूसरी ओर मिताली राज की कप्तानी में अफ्रीका की जमीन पर ही भारतीय महिला क्रिकेट टीम कल तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की अपराजेय बढ़त के लिये उतरेगी.

भारतीय महिला टीम ने किम्बर्ली में ही पहले वनडे में मेजबान दक्षिण अफ्रीका को 88 रन से पराजित किया था और वह इसी लय के साथ दोबारा से इसी मैदान पर जीत के साथ सीरीज पर कब्जा करना चाहेगी. भारतीय महिलाओं के लिये यह सीरीज आईसीसी की महिला चैंपियनशिप का हिस्सा है जिसका यह पहला राउंड है.

इंग्लैंड में गत वर्ष हुये आईसीसी महिला विश्वकप के बाद से भारतीय महिला टीम के लिये यह पहली अंतरराष्ट्रीय सीरीज भी है, ऐसे में मिताली एंड कंपनी के लिये प्रदर्शन और खुद को साबित करने के लिहाज से भी यह सीरीज अहम मानी जा रही है. वैसे पिछले मैच के प्रदर्शन को देखा जाए तो भारतीय महिलाओं ने बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों विभागों में प्रभावित किया था.

हालांकि बल्लेबाजी में उसके मध्यक्रम को सुधार की जरूरत है. पहले वनडे में स्मृति मंधाना ने 84 रन की कमाल अर्धशतकीय पारी खेली थी जबकि कप्तान मिताली की उपयोगी 45 रन की पारी से दोनों टीम को 200 पार ले जाने में सफल रहीं जो लडऩे के लिहाज से संतोषजनक स्कोर था.