गोल्ड कोस्ट,

ग्लास्गो खेलों के चैंपियन भारोत्तोलक सतीश कुमार शिवालिंगम ने यहां गोल्ड कोस्ट में भी पिछली कामयाबी को दोहराते हुये 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के लगातार तीसरे दिन शनिवार को न सिर्फ अपने खिताब का बचाव किया बल्कि भारतीय भारोत्तोलकों की स्वर्णिम कामयाबी को जारी रखते हुये देश को तीसरा स्वर्ण पदक दिला दिया।

सतीश ने पुरूषों के 77 किग्रा वर्ग में कुल 317 किग्रा भार उठाकर स्वर्ण पदक जीता। सतीश ने स्नैच में 144 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 173 किग्रा वजन उठाया। भारत का इन खेलों में यह तीसरा स्वर्ण पदक और कुल पांचवां पदक है। भारत को ये सभी पांच पदक अभी तक भारोत्तोलकों ने ही दिलाए हैं। इससे पहले महिला भारोत्तोलकों मीराबाई चानू और संजीता चानू ने अपने अपने भार वर्गों में स्वर्ण पदक जीते हैं।

जांघ में चोट के कारण सतीश की पदक उम्मीदों को झटका लगा था लेकिन उन्होंने स्पर्धा के फाइनल में आसानी से जगह बनाई। 25 वर्षीय खिलाड़ी ने जीत के बाद खुशी जताते हुये कहा“ मुझे राष्ट्रीय चैंपियनशिप में चोट लगी थी और आस्ट्रेलिया में मुझे पदक की कोई उम्मीद नहीं थी। मैं अभी भी पूरी तरह फिट नहीं हूं लेकिन फिर भी स्वर्ण जीता इसलिये खुश हूं।”

Related Posts: